Breaking News
फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग | राहुल के भोपाल दौरे पर वीडियो वार..'कांग्रेस हल है या समस्या' | कांग्रेस का शक्ति प्रदर्शन: 11 कन्याओं ने उतारी राहुल की आरती, 21 पंडितों ने किया मंत्रोचार |

अपनी ही सरकार में लाचार हैं विधायक पिरौनिया, AE-JE को हटाने ऊर्जा मंत्री को लिखा पत्र

दतिया (शाहिद कुरैशी) । बिजली विभाग के अधिकारियों के आगे भाजपा विधायक अपनी ही सरकार में लाचार हो गए हैं | मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी क्षेत्रीय कार्यालय भाण्डेर में पदस्थ एई सुरेंद्र गुप्ता और जेई सुनील कुमार गुप्ता की बढ़ती मनमानी के खिलाफ कार्यवाही करते हुए इन्हें यहाँ से हटाकर अन्यत्र पदस्थ करने की मांग करते हुए भाजपा के क्षेत्रीय विधायक घनश्याम पिरौनिया ने पारस जैन ऊर्जा मंत्री मप्र शासन को एक पत्र लिखा है । इस पत्र में उक्त दोनों अधिकारियों के कार्य व्यवहार पर उंगली उठाते हुए उनकी कार्यप्रणाली को मप्र सरकार की नीतियों के विरुद्ध कृत्य कर शासन की लोकप्रियता को प्रभावित करने वाला बतलाया गया है । इसके अलावा विधायक घनश्याम पिरौनिया ने मुख्य अभियंता एवं प्रबंध संचालक म.प्र.म.क्षे.वि.वि.कंपनी को भी पत्र लिखकर एई एवं जेई की कार्यप्रणाली से अवगत कराया है।


इन दोनों के खिलाफ ये लगाए हैं आरोप 

विद्युत व्यवस्था को सुचारू बनाये रखने यहाँ ठेके पर कर्मचारियों की नियुक्ति की गई है तथा ये कर्मचारी वर्षों से यहाँ कार्यरत रह कर अपने कार्य में दक्ष हो गए हैं एवं विद्युत व्यवस्था को सुचारू बनाये रखने में मददगार हैं । लेकिन दुर्भाग्य से जबकि अब यह वर्ष चुनावी वर्ष है और सरकार की योजनाओं का सफल और कुशलतापूर्वक संचालन आवश्यक हो जाता है । ऐसे में उक्त दोनों अधिकारी इन दक्ष कर्मियों के साथ असहयोग करते हुए न केवल इन्हें मानसिक रूप से पीड़ित करने में लगे हैं अपितु इनको हटा कर इनके स्थान पर सांठ-गांठ कर नयी भर्ती करने में रुचि अधिक दिखा रहे हैं । जोकि चुनावी वर्ष को देखते हुए अव्यवहारिक और संदेहास्पद प्रतीत होता है । यदि ये अपने प्रयासों में सफल हो जाते हैं तो निःसंदेह विद्युत व्यवस्था के कुशल संचालन में बाधक साबित होगा । ऐसे में जनता का रुझान भाजपा के विरुद्ध जा सकता है । 


महत्वपूर्ण दिवसों पर की जाती है विद्युत कटौती

अभी पिछले कुछ समय से देखने में आ रहा है कि 15 अगस्त , मप्र स्थापना दिवस , गणतंत्र दिवस आदि जैसे महत्वपूर्ण मौकों पर नगर की बिजली काट दी जाती है और उस समय क्रेसरों को निर्बाध बिजली की आपूर्ति की जाती है । उनके इस कृत्य से लोगों में सरकार के खिलाफ गलत संदेश पहुंच रहा है । इससे उनकी , विधायक की , छवि पर भी बुरा असर पड़ रहा है । इसी प्रकार क्षेत्र की जनता के साथ भी इनका रवैया तानाशाही सा रहता है और उनके साथ सहयोग न कर न केवल उन्हें हड़काया जाता है बल्कि उनको अपमानित करने का प्रयास किया जाता है जिसकी शिकायतें मिलने के बाद भी वे इसका निदान करने में असमर्थ हैं ।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...