Breaking News
स्वास्थ्य विभाग में मंत्री का आदेश रद्दी की टोकरी में | मोदी सरकार के 4 साल : बैलगाड़ी, ठेला अैर साइकिल पर सवार होकर कांग्रेस ने मनाया 'विश्वासघात दिवस' | मैं सेवा की ऐसी लकीर खींचूंगा, जिसे मेरे मरने के बाद भी मिटाया न जा सकेगा : शिवराज | पुलिसवाले के दोस्त ने युवतियों से की छेड़छाड़, चप्पलों से हुई पिटाई, खाकी पर उठे सवाल | बैतूल में आज एक और किसान ने की आत्महत्या, सड़क पर शव रख ग्रामीणों ने किया चक्काजाम | MP : मोदी सरकार के चार साल, कांग्रेस मना रही 'विश्वासघात' दिवस | विश्वासघात दिवस : कांग्रेस नेता ने गिनाई मोदी सरकार की 5 नाकामियां | VIDEO : कंटेनर से जा भिड़ा पायलेटिंग वाहन, बाल-बाल बचे स्वास्थ्य मंत्री, 3 पुलिसकर्मी घायल | VIDEO : विधायक ने 'हमसफ़र' को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, पहले दिन यात्री दिखें उत्साहित | 6 जून से पहले जिलों में जाकर किसानों को मनाएंगे मुख्यमंत्री  |

बोरवेल में 35 घंटे संघर्ष कर निकले रोशन को विधायक ने की वीरता पुरस्कार देने की मांग

देवास।

मध्यप्रदेश के देवास जिले में करीब 35 फीट गहरे बोरवेल से मौत को मात देकर निकलने वाले 4 साल के रोशन को वीरता पुरस्कार देने की मांग उठी है। ये मांग विधायक आशीष शर्मा ने की है।इसके लिए विधायक ने 35  घंटे तक संघर्ष कर जिंदगी की जंग जीतने वाले रोशन के लिए राष्ट्रपति और पीएम को पत्र भी लिखा है। विधायक आशीष शर्मा ने पत्र के माध्यम से कहा है कि इतने छोटे बच्चे की समझदारी, धैर्य और साहस की वजह से उसे पुरस्कृत करना उचित लगता है। इसलिए मेरी आपसे मांग है कि रोशन को वीरता पुरस्कार दिया जाना चाहिए।

दरअसल,  बीते दिनों खातेगांव क्षेत्र के उमरिया गांव में रोशन के माता-पिता भीकम सिंह कोरकूव रेखा खेत पर मजदूरी कर रहे थे तभी रोशन खेलते हुए नजदीकी खेत में खुले पड़े बोरवेल के गड्ढे में जा गिरा। रोशन लगभग 33 फुट नीचे फंसा हुआ था। रोशन को सुरक्षित निकालने युद्धस्तर पर लगातार 35 घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया गया। रोशन को निकालने के लिए बोरवेल के पास गड्डा खोदा गया। सेना के रेस्क्यू अधिकारियों ने साइड से टनल बनाकर बच्चे को निकालने की कोशिश की लेकिन चट्टान की वजह से मुश्किलें खड़ी हो गई। आखिरकार रस्सी के माध्यम से रोशन को निकला गया।आखिरकार जिंदगी के लिए 35 घंटे तक हर पल संघर्ष करने वाले रोशन ने मौत को मात देकर जिंदगी की जंग जीत ली । शुरुआत में स्थानीय प्रशासन और बाद में राहत और बचाव कार्य में सेना और एसडीआरएफ का दल भी लगा हुआ था। बच्चा हरकत कर रहा था, इस वजह से शुरू से ही उसके बचने की उम्मीद की जा रही थी। इसी बहादुरी और हौंसले के कारण विधायक ने उसे वीरता पुरस्कार दिए जाने की बात कही है।जिसके लिए उन्होंने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...