Breaking News
अखिलेश बनाएंगे नई टीम, चुनाव से पहले सपा में शामिल हो सकते हैं कई दिग्गज नेता | शिवराज को रास नहीं आई राहुल-मोदी की 'झप्पी' | राहुल ने संसद में आंख मारी तो सोशल मीडिया पर आ गया 'भूकंप' | ICAI Results 2018: CA-CPT का रिजल्ट घोषित, एमपी के पलाश ने मारी बाजी | उद्योगपति के घर 8 लाख की चोरी, पीछे का ग्रिल तोड़कर घुसे बदमाश | तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में भोपाल होगा राजनीति का केंद्र, शाह यही डालेंगे डेरा | एक बार फिर बुआ-भतीजा आमने-सामने | PHE के रिटायर्ड अधिकारी से ठगी, ATM बदलकर निकाले डेढ़ लाख रूपये | GOOD NEWS : अब रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी के कर्मचारी भी होंगें 62 में रिटायर | CM ने एक क्लिक में प्रदेश के 46 हजार छात्रों के बैंक खातों में ट्रांसफर किए 113 करोड़ रुपए |

किसान से 50 हजार की रिश्वत मांग रहा था सहायक कृषि यंत्री, लोकायुक्त ने रंगेहाथों धर दबोचा

देवास| लोकायुक्त पुलिस ने कृषि अभियांत्रिकी विभाग में पदस्थ सहायक कृषि यंत्री को 20 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथों गिरफ्तार किया है| अधिकारी ने आगर मालवा जिले के ग्राम सुसनेर के किसान से पचास हजार की मांग की थी, जिसकी शिकायत किसान ने लोकायुक्त को की थी| आज लोकायुक्त की टीम ने अधिकारी को रंगेहाथों धर दबोच लिया| 

जानकारी के मुताबिक, शासन की योजनानुसार सुसनेर के किसान जगदीश पाटीदार ने 53 लाख रुपए के कृषि उपकरण खरीदी थे| योजना के अनुसार इस योजना के तहत किसानों को 40 फीसदी सब्सिीडी मिलती है जो कि सीधे खाते में आती है| किसान ने थ्रेशर, ट्रैक्टर, मोटरपंप सहित अन्य कृषि उपकरण खरीदे, जिसके निरीक्षण के लिए देवास से सहायक कृषि यंत्री योगराज सावरकर सुसनेर पहुंचे थे। सभी उपकरणों को देखने के बाद इसकी रिपोर्ट आगे भेजना थी, जिसके बाद ही किसान को सब्सिडी का फायदा मिलता। किसान दस दिन से अधिकारी के चक्कर लगा रहा था। इसके बाद भी उसकी परेशानी पर ध्यान नहीं दिया जा रहा था। किसान ने लोकायुक्त में लिखित में शिकायत की, जिसके बाद बुधवार को अधिकारी को उसके कार्यालय में ही गिरफ्तार कर लिया गया । सावरकर के पास देवास, शाजापुर व आगर मालवा जिले का प्रभार है, जिसके तहत आने वाले किसानों को शासन की योजनाओं का लाभ दिलाना है। आरोपित अधिकारी सावरकर को किसान जगदीश पाटीदार ने नकद 2-2 हजार नोट के बीस हजार रुपए दिए। नोट देते ही लोकायुक्त की टीम ने अधिकारी को दबोच लिया और उनके हाथ से नोट लेकर उन्हे केमिकल में डाला गया, जो गुलाबी हो गए थे। इसके बाद लोकायुक्त की पुरी कार्रवाई चलती रही और अंत में 50 हजार रुपए के मुचलके पर अधिकारी को छोड़ दिया गया।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...