3 महिने में ऐसे करोड़पति बना बैंक कैशियर, बैलेंसशीट में हेरफेर कर निकाले 1.28 करोड़

धार। 

मध्यप्रदेश के धार जिले में एचडीएफसी बैंक के कैशियर द्वारा 1.28 करोड़ रुपए गबन करने का मामला सामने आया है।इस मामले में पुलिस ने कैशियर पर धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज किया है। बैंक ने अंकित को बर्खास्त कर दिया गया है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है।

बताया जा रहा है कि अंकित के पिता नरहरि घाटे अमझेरा की जिला सहकारी सेंट्रल बैंक ब्रांच में कर्मचारी थे, उन्हें भी कुछ साल पहले  बैंक के खाताधारकों को जमा पर्ची देकर कैश जमा नहीं करते हुए पकड़ा गया था।इसके बाद उन पर भी कार्रवाई की गई थी।

आरोप है कि एचडीएफसी बैंक की धार शाखा के कैशियर अंकित घाटे ने अगस्त से दिसंबर 2017 के बीच  1 करोड़ 28 लाख 13 हजार 417 रुपए का गबन किया है। किसी को शक ना हो इसलिए उन्होंने नोटों की संख्या कम और कुल राशि बराबर लिख कर बैंक की डबल वेरिफिकेशन सिस्टम अपडेट कर दिया, लेकिन बैंक में नया अॉनलाइन सिस्टम लागू होने पर गड़बड़ी सामने आ ही गई।शाखा प्रबंधक रोहितसिंह तंवर की रिपोर्ट के बाद ऑडिटर और विजिलेंस टीम के अधिकारियों ने सीसीटीवी फु टेज, ऑडिट और दस्तावेजों की जांच के बाद इसका खुलासा किया है।

जांच में यह भी सामने आया है कि अंकित बैंक से राशि एक साथ नही बल्कि धीरे-धीरे करके निकलता था और फिर उन पैसों को बाहर के लोगों को ब्याज पर बांट देता था। ब्याज और उधार राशि की सुरक्षा के रूप में पोस्टडेटेड चेक और अचल संपत्ति की रजिस्ट्री रख लेता था। पुलिस ने आरोपित अंकित के विरुद्ध धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं में प्रकरण दर्ज कर लिया है।फिलहाल मामले की जांच शुरू की गई है। जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।