Breaking News
अब मंत्री-परिषद के सदस्य उतरेंगें सड़कों पर, जनता को समझाएंगे 'सड़क सुरक्षा' के नियम | 28 सितंबर को फिर भारत बंद का ऐलान, इसके पीछे ये है वजह | 12वीं पास के लिए सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, जल्द करें अप्लाई | शर्मनाक : युवक की हत्या के शक में महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया, पथराव-आगजनी, 8 पुलिसकर्मी सस्पेंड | शिवराज कैबिनेट की बैठक खत्म, इन अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी | मॉर्निंग वॉक के दौरान EOW इंस्पेक्टर की मौत, हार्ट अटैक की आशंका | अखिलेश की नजर अब मप्र पर, 3 सितंबर को आएंगें इंदौर | अटल जी के निधन पर पूरे देश में शोक और भाजपा नेता निकाल रहे डीजे यात्रा : कांग्रेस | VIDEO : मोबाईल टॉवर पर चढ़ा शराबी, मचा रहा हंगामा, नीचे उतारने में जुटी पुलिस | चुनावी साल में शिवराज सरकार का मास्टर स्ट्रोक, कुपोषण मिटाने खर्च करेगी 57 हजार करोड़ |

प्रदेश के बेटे ने बढ़ाया देश का मान, रूस ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट में जीता खिताब

धार।

प्रदेश के बेटे ने ना सिर्फ देश में बल्कि दुनिया में मान बढ़ाया है। पूर्व राष्ट्रीय चैंपियन सौरभ वर्मा ने एक बार फिर जबर्दस्त वापसी कर रूस ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिलाब अपने नाम किया है। सौरभ ने  जापान के कोकी वटानाबे को हराकर ये जीत हासिल की है। सौरभ ने फाइनल में एक गेम से पिछड़ने के बाद कोकी को 19-21, 21-12, 21-17 से हराकर खिताब अपने नाम किया। 25 वर्षीय सौरभ ने एक घंटे के संघर्ष के बाद दुनिया के 119वें क्रम के जापानी खिलाड़ी को हराया।फाइनल जीतने पर सौरभ को 51.5 लाख रुपए ईनाम के तौर पर मिले है।

ऐसा कारनामा करने वाले सौरभ पहले भारतीय पुरुष हैं।सौरभ ने हैदराबाद की बैडमिंटन एकेडमी से ही बैडमिंटन की ट्रेनिंग ली है। पुलेला गोपीचंद सौरभ के कोच रहे है।ये उनका इस सीजन में पहला खिताब है। इससे पहले महिलाओं में रुत्विका शिवानी ने 2016 में खिताब अपने नाम किया था। सौरभ एशियन गेम्स टीम में भी शामिल हो चुके है। सौरभ ऑल इंडिया सीनियर रैंकिंग टूर्नामेंट जीत चुके हैं। इस टूर्नामेंट को जीतने के बाद ही उनका चयन एशियन गेम्स के लिए हुआ। उन्होंने चीनी ताइपे प्री गोल्ड टूर्नामेंट भी अपने नाम किया था। सौरभ 2016 में बिटबर्गर ओपन के उपविजेता भी हैं। 


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...