Breaking News
प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी | खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती |

लोकायुक्त की कार्रवाई, तीन हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथों धराया सरकारी अफसर

डिंडौरी

मध्यप्रदेश में सरकारी अफसरों द्वारा रिश्वत लेने का खेल जारी है। लोकायुक्त पुलिस ने आज सोमवार को फिर बड़ी कार्रवाई करते हुए एक सरकारी अफसर को दो हजार की रिश्वत लेते हुए गिरफ्तार किया है।आरोप है कि यह अफसर डायवर्सन से जुड़े मामले में 15 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहा था।

जानकारी के अनुसार, एसडीएम ऑफिस में पदस्थ रीडर दिलीप चौकसे के पास बहुत दिनों से एक फरियादी का डायवर्सन से जुड़ा एक मामला लंबित था। इसे पूरा करने के लिए फरियादी बार-बार ऑफिस के चक्कर लगा रहा था, लेकिन चौकसे उसका निराकरण नही कर रहा था। उसके मामले को निपटाने के लिए फरियादी से 15 हजार रुपए की रिश्वत की मांग की। इस बात की शिकायत फरियादी ने जबलपुर लोकायुक्त से की। लोकायुक्त की टीम ने कार्रवाई करते हुए एक योजना बनाई। जैसे ही फरियादी पहली किश्त के तीन हजार रुपये रीडर चौकसे के पास लेकर पहुंचा , वैसे ही पीछे से लोकायुक्त की टीम ने रंगेहाथों धर दबोचा।लोकायुक्त पुलिस ने रीडर के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज किया है। कार्रवाई पूरी होने के बाद रीडर को निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...