संस्था के भरोसे नहीं चलेंगे अनाथालय, प्रायवेट हॉस्टलों के लिए भी बनेंगे नियम : CM

भोपाल ।

बिहार के मुजफ्फरपुर और उप्र के देवरिया में बालिका गृह में यौन शोषण का मामला उजागर होने के बाद मप्र सरकार विशेष सतर्कता बरत रही है। महिला एवं बाल विकास विभाग ने बालिका गृहों में सिर्फ महिला अफसरों द्वारा निरीक्षण कराने के निर्देश दिए हैं। साथ ही ऐसी संस्थाओं के निरीक्षण के लिए मुख्यालय में पदस्थ महिला अफसरों की ड्यूटी लगा दी है।वही इस मामले को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मुख्य सचिव और डीजीपी के साथ बैठक की है।उन्होंने आरोपियों को कड़ी से कडी सजा देने की बात कही है।

पत्रकारों से चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि सरकार यह सोचकर अनुदान देती हैं कि संस्था अच्छा काम कर रही है लेकिन यहां तो कौन वहसी कहा बैठा हो नहीं पता । ऐसी घटनाओं से मन व्यथित हो जाता है। आरोपी को कड़ी से कड़ी सजा मिले इसके दिए निर्देश दिए गए है। वही अनाथालय नियमित मॉनिटरिंग के लिए भी निर्देश दिए गए है। सीएम ने कहा कि  लड़कियों के होस्टलों का हर महीने निरीक्षण किया जाएगा। अब केवल संस्था के भरोसे अनाथालय नहीं चलेंगे ।प्रायवेट हॉस्टल के लिए भी नियम बनाए जाएंगें। इस घटना में अपराधी को कड़ी सजा मिले उसकी कार्रवाई कर रहे हैं।

गौरतलब है कि बिहार के मुजफ्फरपुर और उत्तर प्रदेश के देवरिया में स्थित शेल्टर होम के बाद मप्र की राजधानी भोपाल के अवधपुरी इलाके में स्तिथ मूक-बधिर बच्चों की हॉस्टल में भी शर्मनाक कृत्य हुए है। यहां रहने वाली एक बच्ची हॉस्टल संचालक की शिकार हुई है, पीडि़त बच्ची धार जिले की रहने वाली है और उसने अपने साथ हुए अपराध की जानकारी इशारों के जरिये माता-पिता को दी। जांच में पता चला है कि ये बच्ची यहां तीन साल से रह रही थी और आरोपी ने उसके साथ कई बार बलात्कार कर चुका था। लड़की को इस बात का पता भी चल चुका था कि अश्विनी उसके साथ रह रही दूसरी युवती के साथ अश्लील हरकत करने के साथ ही गलत काम भी करता है। फिलहाल पुलिस ने मामले के सामने आते ही आरोपी को गिरफ्तार कर पूछताछ शुरु कर दी है। 

बता दे कि अवधपुरी स्थित क्रिस्टल आइडल सिटी निवासी 35 वर्षीय अश्विनी शर्मा अवधपुरी इलाके में दो छात्रावास संचालित करता है। इनमें से एक मूक-बधिर बालिकाओं का है। इसमें सामाजिक न्याय विभाग से मिल रहे अनुदान के आधार पर दिव्यांग बालिकाओं को आईटीआई के जरिए आत्मनिर्भर बनाया जाता है। 


"To get the latest news update download tha app"