Breaking News
अखिलेश बनाएंगे नई टीम, चुनाव से पहले सपा में शामिल हो सकते हैं कई दिग्गज नेता | शिवराज को रास नहीं आई राहुल-मोदी की 'झप्पी' | राहुल ने संसद में आंख मारी तो सोशल मीडिया पर आ गया 'भूकंप' | ICAI Results 2018: CA-CPT का रिजल्ट घोषित, एमपी के पलाश ने मारी बाजी | उद्योगपति के घर 8 लाख की चोरी, पीछे का ग्रिल तोड़कर घुसे बदमाश | तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव में भोपाल होगा राजनीति का केंद्र, शाह यही डालेंगे डेरा | एक बार फिर बुआ-भतीजा आमने-सामने | PHE के रिटायर्ड अधिकारी से ठगी, ATM बदलकर निकाले डेढ़ लाख रूपये | GOOD NEWS : अब रानी दुर्गावती यूनिवर्सिटी के कर्मचारी भी होंगें 62 में रिटायर | CM ने एक क्लिक में प्रदेश के 46 हजार छात्रों के बैंक खातों में ट्रांसफर किए 113 करोड़ रुपए |

आखिर क्यों हटाई गईं सलीना सिह

भोपाल| मध्य प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी पद से सीनियर आईएएस सलीना सिंह की विदाई यकायक नहीं हुई। पिछले डेढ़ वर्ष से कई ऐसे कारण थे जो सलीना सिंह के लिए लगातार परेशानी का कारण बन रहे थे । 31 मार्च 2017 को भिंड जिले के अटेर में उप चुनाव के दौरान vvpat मशीनों से उपजा विवाद इसकी शुरुआत कहा जा सकता है। उत्तर प्रदेश से आई ईवीएम मशीनों को बिना क्लीनिंग के मीडिया के सामने प्रदर्शित करना और उसमें लगातार कमल के चिन्ह वाले मतों का निकलना इसमें चुनाव आयोग की जमकर फजीहत कराई थी ।कोलारस और  मुंगावली उपचुनाव के दौरान भी फर्जी मतदाता सूची का मामला सुर्खियों में आया और इसके चलते दोनों जिलों के कलेक्टरों की विदाई हुई। इन उप चुनावों के दौरान भाजपा के दो विधायक शैलेंद्र जैन और नरेश सिंह कुशवाहा के खिलाफ मामला दर्ज करना भी सलीना सिंह के लिए भाजपासे नाराजगी का कारण बन गया।

इन्हीं उपचुनावों में  सलीना ने प्रदेश सरकार की दो मंत्रियों यशोधरा राजे सिंधिया और माया सिंह को नोटिस भी जारी कर दिए थे। कोलारस  और मुंगावली उपचुनाव के दौरान बीजेपी के कई वरिष्ठ नेताओं से सलीना सिंह की मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में जमकर बहस भी हुई थी। मध्य प्रदेश के मुख्य सचिव की सेवा वृद्धि के मामले को भी सीधे मंत्रालय भेज देना मध्य प्रदेश की सरकार का सलीना सिह से नाराजगी का कारण बन गया । इंदौर के कलेक्टर निशांत वरवड़े को ईवीएम मशीन मामले में दिए गए बयान के चलते सलीना का नोटिस भी आईएएस अधिकारियों में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के प्रति नाराजगी का कारण बना । सलीना सिंह के बारे में भाजपा के नेताओं की दबे स्वरो मे प्रतिक्रिया थी कि वह प्रो कांग्रेसी है। इन सभी शिकायतों के मद्देनजर चुनाव आयोग सलीना सिंह को ज्यादा लंबे समय मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के पद पर रखने का इच्छुक नहीं था। आखिरकार सलीना सिंह की विदाई हो ही गई

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...