Breaking News
MP: चुनाव से पहले किसानों को खुश करेगी सरकार, 28 को खाते में आएगा बोनस | एट्रोसिटी एक्ट : सीएम की मंशा पर महिला अधिकारी ने उठाये सवाल, देखिये वीडियो | भाजपा कार्यकर्ता महाकुंभ कल, पोस्टर-कटआउट से नदारद उमा और गौर, मचा बवाल | खुशखबरी : मध्यप्रदेश के युवाओं के लिए सुनहरा मौका, अक्टूबर मे निकलेगी सेना भर्ती रैली | चुनाव से पहले शिवराज कैबिनेट की बैठक में कई बड़े फैसले, इन प्रस्तावों को मिली मंजूरी | शिवराज के बाद अब केंद्रीय मंत्री के बदले स्वर, एट्रोसिटी एक्ट को लेकर दिया ये बयान | पीड़िता का आरोप- एसपी ने मांगा रेप का वीडियो, तब होगी सुनवाई | इंजीनियर पर भड़के मंत्रीजी, सस्पेंड करने की दी धमकी | दो पक्षों में विवाद, पथराव-आगजनी, 2 पुलिसकर्मी समेत 8 घायल, धारा 144 लागू | भाजपा में बगावत शुरु, पदमा शुक्ला के बाद कटनी से दो दर्जन और इस्तीफे |

देश के 100 जिलों में सबसे ज्यादा होता है बाल विवाह, MP के आठ जिले भी शामिल

भोपाल। देश में बाल विवाह को लेकर सरकार कई जागरूकता अभियान संचालित कर रही है। वहीं, राज्य सरकारें भी इस काम में कई मुहिम चला रही हैं। लेकिन इन सब के बावजूद इन अभियानों का असर होता दिखाई नहीं दे रहा। दरअसल, नेशनल फैमली हेल्थ सर्वे-4 में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। देश के 100 जिलों में 18 साल की उम्र से पहले ही बाल विवाह कर दिया गया। इनमें से 8 जिले मध्यप्रदेश के भी हैं। ये रिपोर्ट साल 2015-16 में किए गए सर्वे में सामने आई है। 

प्रदेश के आठ जिलों में सबसे अधिक बाल विवाह के मामले झाबुआ के हैं। यहां पर बाल विवाह की दर 31.2 फीसदी है जो प्रदेश में सबसे ज्यादा है। शाजापुर 26.7, राजगढ़ 26.1, मंदसौर 25.2, टीकमगढ़ 25, शिवपुरी 19.7, उज्जैन 19.1 रतलाम 19 फीसदी पर है। विवाह की कानूनी तय उम्र से पहले बाल विवाह के मामले सबसे ज्यादा ग्रामीण इलाकों के हैं। 

रिपोर्ट में  बाल विवाह के लिए परिवार की आर्थिक स्थिति को अहम कारण बताया गया है। दरअसल, ग्रामीण क्षेत्रों में जिन परिवारों की आय गरीबी रेखा से नीचे है ऐसे परिवारों में बाल विवाह के ज्यादा मामले सामने आए हैं। बाल विवाह के मामलों में 40 फीसदी से ज्यादा परिवार संपत्ती सूचकांक में सबसे नीचे हैं। वहीं, एमपी में 61 फीसदी मामलों में 18 साल की उम्र से पहले ही युवतियां माध्यमिक शिक्षा पूरी कर लेती हैं।  

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...