अब तहसीलदार हुए सरकार से नाराज़, मांग पूरी नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी

भोपाल। मध्य प्रदेश में पटवारी संघ की अनिश्चितकालीन हड़ताल भले खत्म हो गई लेकिन सरकार की मुश्किलें कम होती नज़र नहीं आ रही हैं। अब प्रदेश भर के तहसीलदार सरकार से खफा हैं। वह गुरूवार से तीन दिन की छुट्टी पर जा रहे हैं। अगर सरकार ने इन तीन दिनों में उनकी मांगों पर ध्यान नहीं दिया तो वह अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। 

दरअसल, तहसीलदार बीते दस साल से पदोन्नति का मुद्दा सरकार के सामने उठाते आ रहे हैं। तहसीलदारों की वेतन विसंगति 2008 से दूर नहीं की गई हैं। संघ के प्रांताध्यक्ष नरेंद्र सिंह ठाकुर ने 10 से 13 अक्टूबर तक सभी तहसीलदार और नायब तहसीलदार के सामूहिक अवकाश पर जाने का ऐलान किया है। अगर सरकार ने तहसीलदारों की मांगों पर अमल नहीं किया तो वह आंदोलन करेंगे। संघ का कहना है कि सरकार की ओर से सिर्फ आश्वासन दिया गया है लेकिन मांगों पर अमल नहीं किया गया है। 

इधर 6 तहसीलदारों का अटका वेतन

इंदौर से ट्रांसफर किए गए 4 तहसीलदारों को रिलीव नहीं किए जाने के कारण यहां पदस्थ किए गए 6 नए तहसीलदार का वेतन अटक गया है। ये नए तहसीलदार तीन माह से इंदौर में काम कर रह हैं। वहीं, पहले से पदस्थ तहसीलदार भी इंदौर में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। वेतन न मिलने से परेशान नव पदस्थ तहसीलदारों ने कलेक्टर इंदौर, राजस्व मंत्री, प्रमुख सचिव राजस्व और कमिश्नर इंदौर से इस मामले में संज्ञान लेकर वेतन दिए जाने की मांग की है। 

"To get the latest news update download the app"