धड़ल्ले से फलफूल रहा रेत का अवैध कारोबार, प्रशासन मौन

गुना |विजय जोगी| जिले में प्रशासन की नाक के नीचे पार्वती नदी पर धड़ल्ले से अवैध उत्खनन चल रहा है|  बिना लीज के खनन कारोबारी धड़ल्ले से अपना कारोबार कर रहे हैं और रोजाना हजारों ट्रॉली रेत अवैध तरीके से निकालकर बाजार में मुंह मांगे दामों पर बेची जा रही है| ऐसा नहीं है कि प्रशासन को इसकी खबर नहीं बल्कि अधिकारियों के संरक्षण में ही यह रेत का कारोबार फल फूल रहा है| प्रशासन के कुछ आला अधिकारी भी इसमें अपना सालय कर चुपचाप बैठे हुए नजर आ रहे हैं | ताजा मामला चाचौड़ा से सामने आया जब प्रशासन ने करीबन 5 सेक्टरों पर कार्रवाई करते हुए ट्रैक्टरों को रेत से भरे हुए पाया तो प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए ट्रैक्टरों को जब्त तो कर लिया लेकिन अभी तक उन पर कोई जुर्माना तक नहीं लगाया गया है और ना ही कोई रोटरी के कागज ट्रैक्टर मालिकों के पास से मिले | इससे साफ जाहिर होता है कि कहीं ना कहीं प्रशासन के अधिकारियों की मिलीभगत से कारोबार हो रहा है और इसका बढ़ा हिस्सा प्रशासनिक बॉडी के पास भी पहुंच रहा है | 

गुना जिले में पार्वती नदी पर खनन का कारोबार काफी लंबे समय से जारी है और देखने दिखाने के लिए अधिकारी इस तरह की कार्रवाई को अंजाम दे रहे हैं जबकि रोजाना 200 से 300 ट्रैक्टर रेत के सांचौर बीनागंज के आसपास संचालित हो रहे हैं जो रेत का कारोबार कर रहे हैं लेकिन प्रशासन है कि कोई भी कार्रवाई करने से परहेज कर रहा है|  इससे साफ जाहिर होता है कि कहीं न कहीं प्रशासन इस कारोबार में लिप्त है| 

3000 से लेकर 4000 तक जा रही रेत 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार तरीके से पार्वती नदी से भरकर लाई जा रही ₹3000 में बेच रहे हैं | जिससे आमजन को परेशानी हो रही है वहीं जो लोग हैं उनकी जेब पर खासा असर पड़ रहा है |अब देखना होगा कि प्रशासन कोई बड़ी कार्रवाई कर पाता है या फिर मिलीभगत का यह कारोबार आगे फलता फूलता  रहेगा|



"To get the latest news update download the app"