Breaking News
कांग्रेसी विधायक ने मर्यादाएं की तार-तार | विधानसभा चुनाव के लिए 'आप' ने जारी की पांचवी लिस्ट, यह होंगे प्रत्याशी | CM की PC: केरल बाढ पीड़ितों को 10 करोड़ की आर्थिक सहायता, अटल जी को लेकर भी कई ऐलान | भितरघात की चिंता: दावेदारों से भरवाए शपथ पत्र, 'टिकट नहीं मिली तो भी पार्टी हित में काम करूंगा' | राहुल गांधी का ऐलान- केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 1 महीने की सैलरी देंगे कांग्रेस के सांसद-विधायक | MP : इन दो महिला आईएएस के निशाने पर 'भ्रष्ट-लापरवाह' अधिकारी | MR.बैचलर बनकर हाईप्रोफाइल लड़कियों को निशाना बनाता था लुटेरा दूल्हा, 4 राज्यों में थी तलाश | पुलिस को पीटने वाले थाने से ससम्मान विदा, नशे में धुत लड़कियों ने हाईवे पर मचाया था उत्पात | Asian Games 2018 : आज से होगा एशियन गेम्स का रंगारंग आगाज, इतिहास रचने को तैयार भारत | दो सांसदों की चिट्ठी के बीच अटकी शिप्रा एक्सप्रेस! |

जो मसूर और मूंग के बीच फर्क नहीं जानते, वे किसान आंदोलन क्या करेंगे : भाजपा सांसद

गुना।

हमेशा अपने बयानों से सुर्खियों में रहने वाले मुरैना से भाजपा सांसद अनूप मिश्रा एक बार फिर ने किसान आंदोलन को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसान आंदोलन की आड़ में बयानबाजी कर अपनी  राजनैतिक रोटियां सेंकने में लगी हुई है। कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में आगे आने और पार्टी हाइकमान के सामने नंबर वन आने की होड़ लगी है।जो मसूर और मूंग के बीच फर्क नहीं जानते वे किसान आंदोलन क्या करेंगे।ये आंदोलन पूरी तरह से असफल होने वाला है।ये बातें उन्होंने गुना में आय़ोजित एक निजी कार्यक्रम में पत्रकारों से चर्चा करने के दौरान कहीं।

मिश्रा यही नही रुके आगे उन्होंने कहा कि ये ना तो किसान आंदोलन है ना ही कांग्रेस आंदोलन ,ये तो सिर्फ कांग्रेस के नेताओं का आंदोलन है। कांग्रेस के दिग्गज नेता अपनी अपनी रोटियां सेंकने में लगे हुए है।इनमें ना तो एकजुटता है ना ही परिपक्वता है। कांग्रेस में भी पहले भी फूट थी और आज भी फूट नजर आती है। 

आगामी चुनाव लड़ने को लेकर मिश्रा ने कहा कि पार्टी जो चाहेगी वही होगा। यदि पार्टी चाहेगी तो चुनाव लड़ेंगे नहीं तो घर बैठ जाएंगे।1980 से लेकर अब तक पार्टी ने मुझे सब कुछ दिया है। पार्टी द्वारा मौका देने पर सात बार चुनाव लड़ा हूं। पार्टी ने ही मुझे विधायक, मंत्री, सांसद सब कुछ बनाया है। आगे भी पार्टी तय करेगी कि मुझे क्या करना है।अगर पार्टी चुनाव नहीं भी लड़ाएगी तो एक कार्यकर्ता के रूप में पार्टी को जिताने की जिम्मेदारी पूरी तन्मयता औऱ समर्पण से पूरी करूंगा। 


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...