भारत रत्न अटल जी के मंदिर में प्रतिमा स्थापित, 10 साल पहले बना था मंदिर

ग्वालियर। शहर की सत्यनारायण की टेकरी पर स्थित भारत रत्न, पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय अटल बिहारी वाजपेयी के मंदिर में बुधवार को प्रतिमा की स्थापना की गई। दस पास पहले बने मंदिर में अबतक उनकी तस्वीर की पूजा की जाती थी।  

उल्लेखनीय है कि अटल जी के कट्टर अनुयायी एडवोकेट  विजय सिंह चौहान अटल बिहारी वाजपेयी को अपना आदर्श मानते हैं और भगवान की तरह ही पूजते हैं। एक दशक पहले उन्होंने सत्यनारायण की टेकरी पर अटल जी का मंदिर बनवाया और वहां उनकी तस्वीर रखकर पूजा की जाने लगी। । लेकिन अब जबकि अटलजी का निधन हो गया तो विजय सिंह चौहान ने अटल जी की मूर्ति स्थापित करने का निश्चय किया । 

 उन्होंने पहाड़ी पर पाए जाने वाले लाल पत्थर पर एक स्थानीय कलाकार से अटल जी प्रतिमा का निर्माण करवाया और आज बुधवार को  मंदिर में तस्वीर के स्थान पर स्थापित कर दिया । अधिवक्ता और निर्माणकर्ता अधिवक्ता श्री चौहान का कहना है कि एक सच्चे महापुरुष होने के नाते अटल जी हम सबके प्रेरणा स्रोत हैं। उनके बताए रास्ते पर चल कर हम जीवन में ऊंचाइयां छू सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह मंदिर भविष्य के राजनेताओं के लिए ज्यादा प्रासंगिक है कि वह इस मंदिर के दर्शन कर अटल जी द्वारा राजनीतिक मूल्यों की स्थापना की यहां से प्रेरणा लें और सच्चे जन सेवक बने। मंदिर के पुजारी जगदीश दास बताते हैं कि वह सत्यनारायण टेकरी के मंदिरों के पूजा अर्चना करते हैं। उसी क्रम में अटल जी के मंदिर की भी अब नियमित पूजा हुआ करेगी। खास बात यह है कि भाजपा के प्रेरणा पुरुष रहे अटल जी की प्रतिमा स्थापना के समय कोई बड़ा चेहरा मंदिर पर मौजूद नहीं था सिर्फ अधिवक्ता विजय सिंह चौहान और उनके कुछ समर्थक और स्थानीय लोग ही पुजारी के साथ मौजूद थे।