Breaking News
प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी | खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती |

आयुर्वेद से देश ही नहीं, पूरी दुनिया की सेवा संभव : नाईक

ग्वालियर।

केन्द्रीय आयुष राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार श्रीपाद यस्सो नाईक का कहना है कि आयुर्वेद से देश ही नहीं पूरी दुनिया की सेवा संभव है वे ग्वालियर में भारत सरकार के क्षेत्रीय आयुर्वेदीय औषधि विकास अनुसन्धान संस्थान में प्रदेश की पहली जीव प्रजनन केंद्र प्रयोगशाला के भूमिपूजन और शिलान्यास के मौके पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। आयुष मंत्री श्री नाईक ने कहा कि भारत सरकार ने आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा देने के लिए विदेशों से करार किये है। कार्यक्रम में मौजूद केन्द्रीय पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि सरकार के प्रोत्साहन की वजह से ही आयुर्वेद और योग को विदेशों में अपनाया गया है। उन्होंने कहा कि इसीलिए सरकार ने आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए अलग से आयुष मंत्रालय बनाया। इस मौके पर मौजूद प्रदेश की नगरीय विकास और आवास मंत्री माया सिंह ने ख़ुशी जताते हुए कहा कि केंद्र सरकार के प्रयासों से मध्यप्रदेश में भी एक छत के नीचे विभिन्न चिकित्सा पद्धतियों की सुविधाएँ मिल रही है।  

ग्वालियर में कम्पू में स्थित केन्द्रीय क्षेत्रीय आयुर्वेदीय औषधि विकास अनुसन्धान संस्थान में स्थापित की जा रही जीव प्रजनन केंद्र प्रयोगशाला 828 वर्ग मीटर में करीब 4 करोड़ 27 लाख में बनकर तैयार होगी। श्री नाईक के मुताबिक केंद्र का निर्माण कोरिडोर संरचना के आधार पर होगा जो पशुओं के प्रजनन और उनको रखने की विशेष शैली है। इस केंद्र में प्रजनन की व्यवस्था रहेगी। साथ ही पशुओं पर आयुर्वेद के प्रयोग करने के लिए उच्च कोटि के पशु रखने के प्रयास किये जायेंगे। कार्यक्रम में केन्द्रीय आयुर्वेदिक विज्ञान अनुसन्धान परिषद के महानिदेशक प्रो के एस धीमान भी खास तौर पर मौजूद थे

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...