साझा अभियान रोकेगा अपराध, MP-UP और राजस्थान के पुलिस अफसरों ने बनाई रणनीति

ग्वालियर। ग्वालियर से लगने वाली उत्तरप्रदेश और राजस्थान की सीमाओं पर चौकसी बढाने और अंतरराज्यीय अपराधियों पर नकेल कसने के लिए ग्वालियर में मप्र उप्र और राजस्थान पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने बैठक की । बैठक में फैसला लिया गया कि साझा अभियान चलाकर अपराधों पर नियंत्रण किया जायेगा । इसके लिए संयुक्त गश्त और एक वत्स एप ग्रुप बनाया जायेगा। 

ग्वालियर पुलिस कंट्रोल रूम के सभागार में आईजी ग्वालियर अंशुमन यादव, आईजी चम्बल संतोष कुमार सिंह, आईजी भरतपुर राजस्थान अलोक वशिष्ठ , डीआईजी झाँसी उत्तरप्रदेश सुभाष सिंह बघेल ने अपने एनी वरिष्ठ साथियों के साथ तीनों राज्यों से लगे जिलों में होने वाले अपराधो की समीक्षा की। बैठक में एक बात सामने निकल कर आई कि पुलिस का आपस में समन्वय नहीं होने से अपराधी घटना कर दूसरे राज्य में छिप जाता है। बैठक में तय किया गया कि एक साझा अभियान चलाकर इसपर लगाम लगाई जाएगी। बैठक में संयुक्त गश्ती दल, अपराधियों से सम्बंधित सूचनाओं का आदान प्रदान करने और वीवीआईपी मूवमेंट की जानकारी भी शेयर करने पर सहमति बनी। बैठक में ये भी तय किया गया कि सप्ताह में एक बार संयुक्त गश्ती दल के अफसरों की बैठक भी होगी।


व्हाट्स एप ग्रुप बनाकार होगा सूचनाओं का आदान प्रदान

बैठक में मौजूद ग्वालियर एसपी नवनीत भसीन ने सुझाव दिया कि तीनों राज्यों के सीमावर्ती जिलों का एक व्हाट्स एप ग्रुप बनाया जाये और वहां के अफसर अपराधियों की जानकारी इसपर शेयर करें । उसकी गतिविधि, लोकेशन, फोटो आदि शेयर करने से कार्रवाई में आसानी होगी। भसीन के इस प्रस्ताव को बैठक में सभी ने स्वीकार कर लिया। 


विधानसभा चुनाव को लेकर बनी रणनीति

बैठक में मध्यप्रदेश और राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनावों पर भी चर्चा हुई। पुलिस अफसरों ने कहा कि शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराना हमारी भी जवाबदारी है। इसलिए चुनावों के दौरान अतिरिक्त सतर्कता की जरुरत है।