मंत्री की खरी खरी : कुछ भी करो, शहर में पेयजल की कमी नहीं होनी चाहिए

ग्वालियर। शहर के आसमान पर आग उगलते सूरज और रूठे मानसून ने पेयजल संकट बढ़ा दिया है। शहरवासियों की प्यास बुझाने वाले तिघरा बाँध का कंठ भी सूखता जा रहा है। लेकिन नगर निगम के अफसर सिर्फ योजनाओं के कागजी घोड़े ही दौड़ा रहे है। हालात और ना बिगड़े इसलिए मंत्री माया सिंह ने अफसरों की बैठक ली और सख्त लहजे में कहा कि कुछ भी करो शहर की प्यास बुझाओ।

गांधी रोड स्थित सर्किट हॉउस में नगर निगम आयुक्त विनोद शर्मा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री माया सिंह पेयजल के मुद्दे पर भड़क गई। निगम अफसरों की क्लास लेते हुए उन्होंने पेयजल वितरण व्यवस्था पर नाराजी  जताई। मंत्री ने कहा कि शहर में पेयजल संकट बढ़ रहा है और इसे दूर करना आपकी जवाबदारी है। उन्होंने सख्त लहजे में कहा कि कुछ भी करो शहर के लोगों की प्यास बुझना चाहिए। पानी सप्लाई के लिए लगे टैंकरों की संख्या बढ़ाओ, जितने भी नए बोर हुए हैं उनमे तत्काल मोटर डलवाओ।  

मंत्री माया सिंह ने तिघरा से मोतोझील तक पाइप लाइन के लीकेज को तत्काल सुधारने के निर्देश दिए। साथ ही मेन लाइन से लोगों को अवैध नल कनेक्शन उपलब्ध कराने वाले दो कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए।


7 करोड़ की राशि जल्द मिलेगी

नगरीय विकास एवं आवास मंत्री ने अफसरों को बताया कि पेयजल के लिए नगर निगम द्वारा भेज गया 7 करोड़ का प्रस्ताव स्वीकार हो गया है और ये राशि जल्दी ही सरकार से जारी कराई जाएगी। साथ ही अवैध से वैध हुई कॉलोनियों के विकास के लिए 3 करोड़ 36 लाख की राशि भी जल्दी ही मुहैया कराई जाएगी।