Breaking News
21 अगस्त को भोपाल में होगी 'अटल जी' की श्रद्धांजलि सभा, कांग्रेस भी होगी शामिल | चुनाव से पहले यात्राओं का दौर, दिग्विजय के बाद जयवर्धन ने शुरू की पदयात्रा | कांग्रेस का आरोप- नरेला विधानसभा में 11 हजार फर्जी वोटर, विधायक बोले- असली को नकली बता रहे | प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी |

देर रात हुई चांद की तस्दीक, रमजान का ऐलान, गुरूवार को पहला रोज़ा

भोपाल। माह-ए-रमजान का चांद दिखने की तस्दीक देर रात होने के बाद रुअत-ए-हिलाल कमेटी ने गुरूवार को पहला रोजा रखे जाने का ऐलान किया। राजधानी के आसमान पर चांद न दिखने के बाद कमेटी ने देश के प्रमुख शहरों से तस्दीक के लिए फोन पर चर्चा की, जिसमें देश के कुछ शहरों में चांद दिखाई देने की बात सामने आई। लगातार बैठकों के दौर के बाद काजी-ए-शहर सैयद मुश्ताक अली नदवी ने यह ऐलान किया। इसके मुताबिक गुरूवार को पहला रोजा रखकर रमजान का आगाज किया जाएगा। इससे पहले बुधवार की देर रात शहरभर की मस्जिदों में तरावीह की नमाज अदा की गई। 

बुधवार शाम को मगरिब की नमाज के बाद रुअत-ए-हिलाल कमेटी ने मोती मस्जिद में चांद देखने की रस्म अदा की। शहर काजी सैयद मुश्ताक अली नदवी के साथ शहर के कई उलेमा और शहर के गणमान्य नागरिक इस दौरान मौजूद थे। प्रदेश के अन्य शहरों के अलावा दिल्ली, लखनऊ, हैदराबाद आदि शहरों से भी चांद दिखने की तस्दीक की गई। लेकिन अधिकांश शहरों से चांद न दिखने की खबरें मिलीं। पहले दौर की इस बैठक के बाद कुछ शहरों में चांद दिखने की खबरें आने पर दोबारा शूरा की बैठक शुरू हुई। इसके बाद शहर काजी ने बुधवार रात से तरावीह की नमाज शुरू होने और गुरूवार से रोजा रखे जाने का ऐलान कर दिया। 

शुरू हुई नमाज-ए-तरावीह

रमजान माह में पढ़ी जाने वाली खास नमाज तरावीह की शुरूआत बुधवार देर रात को अदा की गई। राजधानी भोपाल में 5 से लेकर 27 दिनों तक में तरावीह की नमाज पढ़ने का रिवाज है। इस दौरान पूरे कुरान को बाकी नमाजों के अलावा 20 रकअत पढ़ने और सुनने का रिवाज है। रमजान में इस नमाज का खास महत्व माना जाता है। 

तैयारियों में जुटा शहर

गुरूवार से संभावित रमजान और बुधवार शाम से शुरू होने वाली तरावीह के लिए शहर के अकीदतमंद तैयारियों में जुटे दिखाई दिए। शाम को चांद दिखने या न दिखने की तस्दीक और सटीक जानकारी के लिए लोग एक-दूसरे से मोबाइल और सोशल मीडिया पर जानकारी लेते दिखाई दिए।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...