Breaking News
अविश्वास प्रस्ताव के समय लोकसभा में कमलनाथ की गैरमौजूदगी के मायने | VIDEO : ये कैसा स्वच्छ भारत...शर्मसार एमपी | कविता रैना हत्याकांड : हाईकोर्ट ने सरकार को दिया सीबीआई जांच कराने का हक | पूर्व सांसद की पत्नी के बैग से मिले जिंदा कारतूस, मचा हड़कंप | शिवराज जी, मेरे देश द्रोही होने के प्रमाण हो तो मुझे सजा दिलवाएं, नही तो माफी मांगे : दिग्विजय | बड़ी खबर : आज से ट्रांसपोर्टर्स की देशव्यापी हड़ताल, थमे 90 लाख ट्रकों के पहिए | भोपाल के फिल्टर प्लांट से गैस लीक, मची अफरा-तफरी, सांस लेने में लोगों को हो रही दिक्कत | VIDEO: यशोधरा बोलीं..'मेहनत हमारी, वोट हाथी को' | सत्ता मद में चूर भाजपा सिंधिया के खिलाफ कर रही झूठा प्रचार : कांग्रेस विधायक | शिवराज की नजर में ..दिग्विजय 'देशद्रोही' की श्रेणी में |

चुनाव से पहले उमा-शिव के संबंधों में पिघलती बर्फ

भोपाल। प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में विरोधी गुट एक होने की तैयारी में है। लंबे समय से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के बीच संबंधों में जमी बर्फ अब पिघलने लगी है। चुनाव तक शिवराज और उमा भारती एक हो जाएंगे। उमा अब मप्र की राजनीति में लौटने का मन बना चुकी हैं, यही कारण है कि उन्होंने अगला चुनाव लडऩे से इंकार किया है। सोमवार को उमा के भाई स्वामी प्रसाद लोधी की अंत्येष्टि में पहुंचे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अपना बड़ा भाई बताया। शिवराज ने भी उमा को बड़े भाई का फर्ज निभाने का वादा किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी लोधी खुद के बलबूते पर राजनीति में आगे बढ़े, सरकार ने उन्हें राजकीय सम्मान के साथ अंतिम बिदाई देकर कोई अहसान नहीं किया। उन्होंने स्वामी लोधी के बेटा नील एवं बेटी नित्या को ढांढस बंधाया। भाई की अंत्येष्टि के दौरान उमा भारती ने मुख्यमंत्री से कहा कि अब वे ही परिवार के मुखिया हैं और बड़े भाई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वे बड़े भाई का फर्ज जरूर निभाएंगे। उमा और शिवराज के बीच रिश्ते सुधरने से भाजपा के दूसरे खेमे में खलबली मची है। दरअसल उमा भारती की मंशा प्रदेश की राजनीति में सक्रिय होने की है, हालांकि वे चुनाव नहीं लड़ेंगे। उनकी कोशिश अगले विधानसभा चुनाव में अपने उन समर्थकों को टिकट दिलाने की है, जो जनशक्ति पार्टी में उनके साथ थे। ऐसे करीब डेढ़ दर्जन नेता है, जिनके टिकट के लिए उमा भारती पैरवी कर सकती है। उनके समर्थकों को प्रदेश संगठन में बेशक कोई बड़ा दायित्व नहीं मिला, लेकिन चुनाव के दौरान पार्टी की गतिविधियों में उमा समर्थकों को खासा तवज्जो मिल सकता है। उमा-शिवराज के बीच बेहतर होते संंबंधों को देखते हुए उनके समर्थकों ने भी मुख्यमंत्री और पार्टी के अन्य नेताओं से नजदीकियां बढ़ाना शुरू कर दिया है। 


राजकीय सम्मान के साथ अंत्येष्ठि

स्वामी लोधी की अंतिम यात्रा में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष, सहित यूपी और एमपी के भी कई केंद्रीय मंत्री, विधायक, भाजपा नेता भी शामिल हुए। उनका अंतिम संस्कार शहर के झांसी रोड स्थित दिव्यांतरण फार्म हाउस पर किया गया। जहां उन्हें पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। इस दौरान पुलिस एवं प्रशासन के आला अधिकारी मौजूद रहे। साथ ही मप्र और उप्र क कई नेता भी पहुंचे। 


उमा के विरोधी भी पहुंचे उमा की अंत्येष्ठि में

स्वामी लोधी की अंत्येष्ठि में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह, राष्टीय उपाध्यक्ष प्रभात झा, केंद्रीय मंत्री वीरेंद्र खटीक, प्रभारी मंत्री रुस्तम सिंह, राज्यमंत्री ललिता यादव, उप्र के मंत्री मन्नू कोरी, विधायक केके श्रीवास्तव, विधायक अनिल जैन, विधायक अनीता नायक, आईजी सतीश सक्सेना, डीआईजी अनिल माहेश्वरी, कलेक्टर अभिजीत अग्रवाल, एसपी समेत प्रशासन के कई अधिकारी एवं लोग मौजूद थे। इनमें से कुछ नेता उमा भारती के विरोधी माने जाते हैं।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...