सोनिया गांधी बनीं कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष, CWC की बैठक में 3 प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित

नई दिल्ली। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चयन को लेकर दिल्ली में दिन भर चली बैठकों के बाद यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी को अंतरिम अध्यक्ष चुना गया है| कांग्रेस मुख्यालय में हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी (CWC) की मैराथन बैठक में यह फैसला हुआ।  बैठक में राहुल गाँधी का इस्तीफा मंजूर कर लिया गया है| बैठे में तीन प्रस्ताव रखे गए थे, जिसे सर्वसम्मति से पारित किया गया| भविष्य में जब तक नए अध्यक्ष का चुनाव नहीं होता तब तक सोनिया गाँधी अंतरिम अध्यक्ष के रूप में कांग्रेस पार्टी की कमान संभालेंगी| पहले ऐसी संभावना थी कि गाँधी परिवार से अंतरिम अध्यक्ष या अध्यक्ष नहीं चुना जाएगा| लेकिन बैठक में सोनिया गाँधी के नाम पर मुहर लगी| बताया जा रहा है ज्यादातर सदस्यों ने राहुल गाँधी या सोनिया गाँधी के नाम का ही सुझाव दिया, राहुल गाँधी के इंकार के बाद गैर गाँधी परिवार पर सहमति न बनने के चलते आखिरकार सोनिया गाँधी के नाम पर मुहर लगी| इससे पहले दिन भर बैठकों का दौर चला और कयासों का दौर चलता रहा| 

बैठक के बाद पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि CWC बैठक में तीन प्रस्ताव पारित किए गए| पहला प्रस्ताव यह था कि राहुल गांधी ने पार्टी को शानदार नेतृत्व दिया| बैठक में उनके कार्यकाल की सराहना की गई, उन्होंने व्यापारियों, किसानों, मजदूर, दलित, महिलाओं, आदिवासियों के लिए आवाज उठाई|  बैठक में राहुल गांधी से कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहने की गुजारिश की गई. लेकिन उन्होंने मना कर दिया. दूसरा प्रस्ताव यह कि सीडब्ल्यूसी ने यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गांधी से अंतरिम कांग्रेस अध्यक्ष बनने की मांग की, जिसे उन्होंने स्वीकार कर लिया| नया पार्टी अध्यक्ष चुने जाने तक सोनिया गांधी पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष रहेंगी| तीसरा प्रस्ताव जम्मू-कश्मीर को लेकर पास किया गया, जिसमें राज्य के मौजूदा हालात को लेकर चिंता जताई गई|

बैठक में सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, एके एंटनी, मल्लिकार्जुन खड़गे, और ज्योतिरादित्य सिंधिया समेत तमाम बड़े नेता मौजूद थे। राहुल गांधी शुरू में नहीं थे, लेकिन बाद में शामिल हुए। दिन में दूसरी बार यह बैठक हुई। सुबह भी नए अध्यक्ष के लिए रायशुमारी हुई थी। वहीं रात में हुई बैठक के बाद बाहर निकले राहुल ने बताया, कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में कांग्रेस अध्यक्ष चुने जाने पर चर्चा हो रही थी, तभी खबरें आईं कि जम्मू-कश्मीर में हिंसा हुई है। इस पर नेताओं ने मुझे बुलाया और तय हुआ कि कश्मीर में बिगड़ते हालात के बीच कांग्रेस अध्यक्ष का चुनाव नहीं होगा।

"To get the latest news update download the app"