पूर्व विधायक का आरोप, 'कांग्रेस के एजेंट बनकर काम कर रहे अधिकारी'

गुना| विजय जोगी| लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लगने के बाद अधिकारियों पर सत्ता पक्ष में काम करने के आरोप लगे हैं| अब तक यह मुद्दा कांग्रेस उठती थी, लेकिन अब जब कांग्रेस सत्ता में है तो भाजपा इसको लेकर मैदान में नजर आ रही है| गुना जिले की चांचौड़ा से भाजपा की पूर्व विधायक ममता मीना ने कलेक्टर और एसपी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है| पूर्व विधायक ने जिले के आला अधिकारियों पर कांग्रेस के एजेंट के रूप में काम करने के आरोप लगाए हैं| उन्होंने कहा है कि वे इस सम्बन्ध में चुनाव आयोग से शिकायत करेंगी| 

दरअसल, पूर्व विधायक ममता मीना ने सोमवार शाम को अपने निवास पर पत्रकारवार्ता की| इस दौरान उन्होंने कहा हमारे अधिकारों का हनन हो रहा है, हमारे अधिकार जिले के अधिकारी अपने हाथों में रखना चाहते हैं, अधिकारी कांग्रेस के एजेंट के रूप में काम कर रहे हैं, ऐसी स्तिथि में इनसे क्या न्याय की उम्मीद जनता करेगी जब वो जनप्रतिनिधियों को ही नहीं छोड़ रहे| बीजेपी विधायकों के साथ पक्षपात किया जा रहा है, हमारी विधायक निधि कलेक्टर ने रोक दी है| जबकि कांग्रेस विधायकों की निधि फाइलें बुलवा कर जारी कर दी|  ऐसे हालातों में लोकसभा चुनाव निष्पक्ष तरीके से हो पाएंगे, संदेह की स्थिति है।

तबादले के डर सत्ता पक्ष में काम कर रहे कलेक्टर एसपी 

पूर्व विधायक ने कलेक्टर भास्कर लक्षकार एवं जिला पुलिस अधीक्षक राहुल कुमार लोड़ा के ऊपर कई आरोप लगाए | उन्होंने कहा कि कलेक्टर भास्कर लक्षकार एवं पुलिस अधीक्षक राहुल कुमार लोढ़ा द्वारा पूरी तरह से सत्ता के दबाव में काम किया जा रहा है उन्हें डर है कि यदि वे सत्ता के विपरीत कार्य करेंगे तो उनका भी तबादला कर दिया जाएगा | जिस प्रकार अन्य अधिकारियों का तबादला किया जा रहा है|  

उन्होंने आरोप लगाया कि वित्तीय वर्ष 2018-19 में विधायक निधि से अपने क्षेत्र में निर्माण कार्यों की प्रशासकीय स्वीकृति के लिए 15 सितंबर 2018 को प्रस्ताव दिए थे। लेकि न सूची में शामिल 48 लगायत 72 तक 59.60 लाख रुपए के कार्य अभी तक स्वीकृति के लिए लंबित हैं। जबकि वित्तीय वर्ष समाप्त होने वाला है। श्रीमती मीना ने कहा कि इस संबंध में कलेक्टर को लीगल नोटिस भी दिया गया, जिसका भी जवाब नहीं दिया गया। इसके विपरीत कांग्रेस विधायकों की निधि स्वीकृत की जा रही है, जो कि मेरे अधिकारों का हनन है। इस मामले की चुनाव आयोग से शिकायत की जाएगी, जहां से अनदेखी की गई, तो कोर्ट का दरवाजा भी खटखटाउंगी।

पूर्व विधायक ने आरोप लगाया कि कलेक्टर एसपी ने छह मार्च को बीनागंज में एक खदान पर कार्रवाई की, जबकि उक्त खदान लीगल थी। इसके साथ ही एक युवक को पकड़कर चौकी में बैठाया गया। इस संबंध में जब युवक के परिजनों ने कारण पूछा, तो संतोषजनक जवाब नहीं था। बीनागंज चौकी में रात 9 बजे शिकायत भी की, लेकि न उसे नहीं छोड़ा गया। पुलिस ने बाद में जवाब दिया कि युवक भाग गया है। इस तरह जनता को परेशान किया जा रहा है। पूर्व विधायक श्रीमती मीना ने आरोप लगाया कि ऐसे कई मामले हैं, जिनमें कलेक्टर व एसपी की कार्यशैली दुर्भावना से काम करने जैसी नजर आई है। ऐसे हालातों में लोकसभा चुनाव का निष्पक्ष हो पाना भी संदेह की स्थिति पैदा कर रहा है। क्योंकि , कलेक्टर संसदीय क्षेत्र के शिवपुरी जिले के रहने वाले भी हैं। इस संबंध में चुनाव आयोग को शिकायत करेंगी, ताकि चुनाव निष्पक्ष तरीके से कराए जा सकें ।



"To get the latest news update download the app"