किसान पुत्र थे शिवराज तो किसान आंदोलन क्यों : संजय

भोपाल।

हाल ही में भाजपा से कांग्रेस में शामिल हुए मुख्यमंत्री के साले संजय सिंह मसानी आज प्रदेश कांग्रेस कमेटी दफ्तर पहुँचे। यहां उन्होंने कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की। वही कार्यकर्ताओं ने भी उनका बड़ी ही गर्मजोशी से स्वागत किया।इस दौरान संजय ने एक बार फिर मुख्यमंत्री शिवराज पर जमकर हमला बोला। उन्होंने भावांतर, मंदसौर गोलीकांड, किसान आंदोलन और संबल योजना पर भी सवाल उठाए।

       दरअसल, दिल्ली में कमलनाथ और सिंधिया जैसे बड़े नेताओं द्वारा कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण करने के बाद आज पहली बार संजय सिंह पीसीसी पहुंचे। यहां उन्होंने  शेखर प्रभास के साथ कई बड़े नेताओं से मुलाकात की।इस दौरान मीडिया से चर्चा के दौरान उन्होंने एक बार फिर अपने जीजा और प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज पर हमला बोला। संजय ने कहा कि शिवराज किसान पुत्र थे तो किसान आन्दोलन क्यो हुआ। किसानों पर गोलिया क्यों चलाई गई। वही उन्होंने सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं पर सवाल उठाते हुए कहा कि भावान्तर के भंवर मे किसान फंस गया है। चुनाव के पहले संबल योजना पर सवाल उठने लगे है, लोग साफ कह रहे है कि वोट के लिये ये योजना लाई गई। 

इससे पहले उन्होंने दिल्ली में सीएम शिवराज पर आरोप लगाते हुए कहा था  भाजपा को 14 साल हो गए है, ये बहुत है अब प्रदेश को शिवराज की नही कमलनाथ यानि नाथ की जरुरत है। प्रदेश में कामदारों को अलगकर नामदारों को आगे बढ़ाया जा रहा है। कमलनाथ जी ने जैसे छिंदवाड़ा का विकास मॉडल दिया उसी तरह वे मध्यप्रदेश में विकास को आगे  बढ़ाएंगे। प्रदेश को शिवराज सिंह चौहान की जरूरत नहीं है, बल्कि कमलनाथ की है। उन्‍होंने कहा था कि मैं शिवराज के परिवार का नहीं उनका साला हूं, भाजपा में कार्यकर्ताओं की पूछपरख नहीं, यहां वंशवाद हावी है।