कांग्रेस में केंद्रीय पर्यवेक्षकों की नेतागिरी..!

भोपाल| विधानसभाा चुनावों को लेकर कांग्रेस की संगठनात्मक तैयारी के लिए आये केंद्रीय पर्यवेक्षकों को लेकर पार्टी के अंदर जबरदस्त गुस्सा है, चुनाव से पहले टिकट की चाहत रखने वाले उम्मीदवारों पर यह आब्जर्वर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं| दबी जुबान में कई नेता इनका विरोध कर चुके हैं| कल ही कई पूर्व विधायक और पूर्व सांसद ने इसको लेकर शिकायत की थी| वहीं पीसीसी चीफ ने भी यह माना है कि केंद्रीय पर्यवेक्षकों का व्यव्हार ठीक नहीं है और कुछ पर्यवेक्षक अपनी नेतागिरी दिखा रहे हैं| हालांकि कमलनाथ का कहना है कि मैं सभी पर्यवेक्षको से मिलूंगा और इस विषय पर बात करूंगा| 

कमलनाथ आज मीडिया से चर्चा कर रहे थे, जब उनसे केंद्रीय पर्यवेक्षकों की शिकायतों को लेकर सवाल किया गया तो कमलनाथ ने स्वीकारा कि ऐसी शिकायत उन्हें भी मिली है| उन्होंने कहा कुछ पर्यवेक्षक अच्छा काम कर रहे हैं, लेकिन कुछ ऐसे है, जो अपनी नेतागिरी दिखा रहे हैं| मैं उन सभी से मिलूंगा और चर्चा करूँगा| कुछ  पर्यवेक्षक अच्छा काम कर रहे है, जिनका व्यवहार ठीक नहीं होगा, जिनकी शिकायत आयेगी, उन्हें हटा दिया जायेगा| पूर्व विधायक -पूर्व सांसद के सवाल पर कहा सभी के सहयोग की आवश्यकता है, सभी का सहयोग लेंगे और जिम्मेदारी भी देंगे| 

क्या केंद्रीय पर्यवेक्षक कर रहे पैसों की मांग 

पर्यवेक्षकों के खिलाफ शिकायत का मामला सामने आने के बाद राज्य नागरिक आपूर्ति निगम के चेयरमैन और भाजपा नेता हितेष वाजपेयी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है| वाजपेयी ने ट्वीट कर लिखा सुना है कि कांग्रेस के "केन्द्रीय पर्यवेक्षक" विधायकों और पूर्व विधायकों से कर रहें हैं पैसे की मांग और इस खबर की कमलनाथ जी ने की है पुष्टि "