मप्र में अब तक सामान्य से अधिक वर्षा, अगले 24 घंटे यहां तेज बारिश के आसार

भोपाल| मध्य प्रदेश में पिछले एक सप्ताह में कहीं कहीं रुक रूककर तो कहीं लगातार बारिश से कई जगह हालात बिगड़ गए हैं| नर्मदा, ताप्ती, बेतवा सहित सभी प्रमुख नदियां कई जगह खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। वहीं कई बड़े बांधों के गेट खोले गए हैं| हालाँकि फ़िलहाल तेज बारिश का सिलसिला थम गया है| बंगाल की खाड़ी में 12 अगस्त को नया सिस्टम बनने के संकेत हैं। इसके बाद एक बार फिर अच्छी बारिश का सिलसिला शुरू होने वाला है| 

मौसम विभाग के अनुसार, एक जून से अब तक 614 मिली मीटर बारिश हो चुकी है, जो सामान्य बारिश 550 मिली मीटर से 64 मिमी ज्यादा है। मप्र में बारिश का कोटा 30 सितंबर तक 953 मिली मीटर है।  प्रदेश के 30 से ज्यादा जिलों में बीते 24 घंटे के दौरान 10 सेमी से ज्यादा बारिश दर्ज की गई, जबकि भोपाल में 9.8 सेमी पानी बरसा।

मंत्री ने किया अति-वर्षा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण 

राजस्व एवं परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने अति-वर्षा  प्रभावित मंदसौर जिले का हवाई सर्वेक्षण कर प्रभावितों के लिये राहत शिविरों, भोजन एवं स्वास्थ्य परीक्षण की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक आपदा प्रभावित क्षेत्रों में तत्काल समुचित राहत पहुँचाई जा रही है। मंत्री राजपूत ने ग्राम बाजखेड़ी में स्थानीय तालाब के फूटने से ग्राम चांगली एवं मोहम्मदपुरा में पानी भर जाने से प्रभावित परिवारों को दी गई राहत की जानकारी भी प्राप्त की। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत स्तर पर बचाव और राहत दलों का गठन किया गया है। जिला एवं तहसील स्तर पर बाढ़ नियंत्रण-कक्ष को 24 घंटे चौकस रहने के निर्देश दिये गये हैं। समय पर राहतकर्मी एवं बचाव दल द्वारा एक्शन लेने से क्षति काफी कम हुई है। प्रभावित क्षेत्र में 892 परिवारों का स्वास्थ्य परीक्षण किया गया है। उन्होंने कहा कि जिले में अति-वर्षा के कारण 4 लोगों की मृत्यु की पुष्टि हुई है। इनमें से 3 लोग नाला क्रास करते समय पानी में बह गये एवं एक व्यक्ति की मृत्यु घर के सामने गड्ढे में डूब जाने से हुई। चारों जन-हानि लापरवाही के कारण दुर्घटनावश हुई।  राहत शिविरों में प्रभावितों को 50-50 किलो गेहूँ नि:शुल्क वितरित किया जा रहा है। पीड़ितों को स्थानीय स्कूलों में लगाये गये अस्थाई शिविरों में शिफ्ट किया गया है और उनके भोजन आदि की पर्याप्त व्यवस्था की गई है। पानी उतरने के बाद प्रभावित परिवार अपने-अपने घर वापस लौटेंगे।

आगे ऐसा मौसम 

भारी बारिश के कारण कई जिलों में बाढ़ की स्थिति बनी हुई है। मौसम विभाग के मुताबिक मध्यप्रदेश के रतलाम, अलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, धार, नीमच, मंदसौर जिलों में भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा सभी जिलों में बारिश का दौर जारी रहेगा।  अगले 24 घंटों के दौरान भी मध्य प्रदेश के जिलों में कुछ स्थानों हल्की से मध्य बारिश की संभावना है। मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटों के दौरान प्रदेश के भोपाल, उज्जैन, इंदौर, जबलपुर, होशंगाबाद और ग्वालियर संभागों में सामान्य बारिश और सागर और चंबल संभागों के जिलों में कुछ स्थानों पर कहीं-कहीं बारिश दर्ज की गई। इसके अलावा पश्चिमी मध्यप्रदेश में मानसून सक्रिय बना हुआ है।

"To get the latest news update download the app"