राजधानी में हुई तूफानी बारिश, इन जिलों में अगले 24 घंटे वर्षा के आसार

भोपाल| सितम्बर में जमकर बरसे मानसून की विदाई अक्टूबर के पहले सप्ताह में भी नहीं हुई| इतिहास में पहली बार मौसम विभाग ने प्रदेश में 11 अक्टूबर तक मानसून सक्रीय रहने के संकेत दिए हैं| लेकिन जिस तरह कई इलाकों में रुक रुक कर बारिश का सिलसिला जारी है, संभावना है कि यह बारिश अभी थमने वाली नहीं है| राजधानी में शनिवार दोपहर को तूफानी बारिश हुई, कई जगह चने समान ओले गिरने की भी खबर है| वहीं पिछले 24 घंटे के दौरा राज्य के कई हिस्सों में बारिश हुई है| 

भोपाल में पिछले तीन दिन से तेज धूप निकल रही थी। लोगों को उम्मीद थी कि अब शायद बारिश नहीं होगी, लेकिन आज अचानक मौसम बदलने के कारण तेज गरज चमक के साथ राजधानी में तेज बारिश का दौर एक बार फिर शुरू हो गया हैं। प्रदेश के कुछ इलाकों में हल्की तो दोपहर के बाद कई स्थानों पर तेज बारिश हुई है| 

कालापीपल में गिरे ओले, फसलें तबाह 

शाजापुर जिले के कालापीपल में कुछ गांवों में जोरदार हवा आंधी के साथ ओलावृष्टि हुई। पेड़ गिर पड़े, मकानों की चद्दरे उड़ गई। वहीं ओलो से सोयाबीन की फसल को नुकसान हुआ। अपनी फसल देखकर किसानों के आंसू निकल आए। दो दिन से खिली धूप के बाद अन्नदाता खेतों में सोयाबीन की फसल निकालने में जुटे हुए हैं। देखते ही देखते यहां बारिश के साथ ग्राम कांकड़खेड़ा एवं आसपास के ग्रामों में ओलावृष्टि प्रारंभ हुई।

इन जिलों में  बारिश का अलर्ट

उज्जैन, नीमच, रतलाम, शाजापुर, देवास, आगर, मंदसौर, भोपाल, रायसेन, राजगढ़, विदिशा, सीहोर, धार, इंदौर, खंडवा, खरगौन, अलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, बुरहानपुर, होशंगाबाद, बैतूल, हरदा, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, नरसिंहपुर, कटनी जिले में वर्षा या गरज चमक के साथ बौछारे पड़ने का अनुमान है।

बारिश से बिगड़े नवरात्रि के कार्यक्रम 

इसके पहले मौसम विभाग ने संभावना जताई थी कि दशहरें के बाद लोगों को बारिश से पूरी तरह से राहत मिल जाएगी। लेकिन आज हुई बारिश के बाद ऐसा लग रहा है कि अभी माससून की विदाई नहीं होने वाली। बारिश के चलते नवरात्रि के कार्यक्रम भी प्रभावित हो रहे हैं, वहीं रावण दहन को लेकर भी आयोजक व्यवस्थाओं में जुटे हुए हैं| अगर बारिश हुई तो रावण दहन का कार्यक्रम चौपट हो सकता है|  


"To get the latest news update download the app"