नतीजों से पहले सट्टा बाजार ने फिर मचाई खलबली

इंदौर। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद से ही सट्टा बाजार के नए नए समीकरण सामने आने से राजनीति दलों में खलबली मची है। वोटिंग के पांच दिन होने के बाद से लगातार सट्टा बाजार में कांग्रेस और भाजपा बढ़त बनाए हुए हैं। लेकिन अब सट्टा बाजार के नए रूझान से एक बार फिर सियासत गरमा गई है। इंदौर में सट्टा बाजार का बड़ा कारोबार है। यहां के सटोरिये इस बार चुनाव की हर सीट पर पैनी नजर बनाए हुए हैं। 

ताजा खबर है कि सट्टा बाजार ने कांग्रेस की सीटों में एक बार फिर इजाफा कर दिया है। इससे पहले भी सट्टा बाजार दावा कर रहा था कि कांग्रेस सरकार बनाने की ओर अग्रसर है। इस बार सट्टा बाजार ने कांग्रेस को 118 से 120 के बीच सीटें मिलने का दावा किया है। यही नहीं कांग्रेस को बहुमत का चमतकारी आंकड़ा दिलाने वाला यह बाजार भाजपा के कई उम्मीदवारों को मजबूत भी मान रहा है। 

वोटिंग के अगले ही दिन कांग्रेस को 99 से 110 सीटों दिलवाने वाले सट्टा बाजार के बारे में कहा जा रहा था कि कांउटिंग से पहले इनमें बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है। भाजपा की सीटों में इजाफा हो सकता है। लेकिन पांच दिन बाद सटोरियों के आंकड़ों ने तो भाजपा नेताओं की नींद ही उड़ा दी है। कैमरे पर पार्टी नेता सट्टा बाजार को खारिज कर रहे हों लेकिन सूत्रों के मुताबिक कुछ नेता तो लगातार सटोरियों के संपर्क में बने हैं। सटोरियों के मुताबिक कांग्रेस को 120 के आसपास सीटें मिल रही हैं। स्पष्ट बहुमत आ रहा है। इधर, भाजपा की स्थिति दिन-दर-दिन खराब हो रही है। अब वह 97 से 99 पर जा ठहरी है। इसका अर्थ है सपा, बसपा और निर्दलीय भी प्रदेश में गुल खिलाएंगे।

इंदौर में भी कांग्रेस मजबूत

सट्टा बाजार की माने तो इंदौर में भी इस बार कांग्रेस बड़ा उलटफेर कर सकती है। इंदौर में नौ विधानसभा सीटें हैं। इनमें से पहले सट्टा बाजार भाजपा को पांच सीटे मिलने का दावा कर रहा था। लेकिन अब नए आंकड़ों में सट्टा बाजार इंदौर में भाजपा और कांग्रेस को चार चार सीट मिलने का दावा कर रहा है। लेकिन सबसे बड़ा फेरबदल इंदौर एक नंबर सीट पर बताया जा रहा है। यहां से भाजपा के सुदर्शन गुप्ता चुनाव लड़े हैं। उन्हें पहले जीत मिलते बताया जा रहा था। पहले इस सीट पर 60-70 पैसे का भाव रखा गया था। लेकिन तमाम अध्ययन के बाद सट्टा बाजार ने बड़ा फेरबदल कर अब यहां गुप्ता और कांग्रेस प्रताशी संजय शुक्ला का भाव 90-90 पैसा कर दिया है।

मतलब इस बार कांटे का मुकाबला है। ऊंट किस करवट बैठेगा, कहा नहीं जा सकता है। इसके अलावा आकाश आकाशवर्गीय और महेंद्र हार्डिया की कीमतों में बढ़ोत्तरी हुई है। कांग्रेस प्रताशी जीतू पटवारी, तुलसी, अंतरसिंह दरबार और विशाल पटेल की कीमत और कम हुई है। उस हिसाब से कांग्रेस का वोट बैंक मजबूत हुआ है।

"To get the latest news update download tha app"