मीसाबंदियों को लेकर मप्र में घमासान, सरकार पर बरसे शिवराज

भोपाल। स्वतंत्रता दिवस पर मीसाबंदियों को आमंत्रित नहीं करने के फैसले पर विवाद बढ़ता जा रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को राज्य सरकार पर एक बार फिर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरकार ने मीसाबंदियों को आमंत्रित नहीं करने का निर्णय दुर्भाग्यपूर्ण है। 

उन्होंने मीडिया से चर्चा के दौरान कहा कि लोकतंत्र को बचाने के लिए मीसाबंदियों ने घनघोर यातनाएं सहीं। उनके संघर्ष के कारण लोकतंत्र फिर से बहाल हुआ। उन्होंने कहा कि इसीलिए मुख्यमंत्री रहते हुए उन्होंने ऐसे लोगों को सम्मानित करने का फैसला किया था। कमलनाथ सरकार को भी दलगत राजनीति से ऊपर उठकर इसे जारी रखना चाहिए। इस पर रोक लगाना दुर्भाग्यपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि मीसाबंदियों का जिक्र आने से पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी कटघरे में खड़ी होती हैं। संभवत: इसी के चलते कांग्रेस सरकार ने ये फैसला किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने तय किया है कि अलग-अलग जिलों में होने वाले पार्टी के कार्यक्रमों में उन्हें आमंत्रित कर सम्मान किया जाएगा। राज्य में पूर्ववर्ती भारतीय जनता पार्टी सरकार के कार्यकाल के दौरान मीसाबंदियों को स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस समारोह में आमंत्रित किया जाता था। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक इस बार स्वतंत्रता दिवस समारोह में मीसाबंदियों को आमंत्रित नहीं किया गया है। 

भाजपा मीसाबंदियों का सम्मान करेगी 

मीसाबंदियों का जिक्र आने से पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी कटघरे में खड़ी होती हैं। संभवत: इसी के चलते कांग्रेस सरकार ने ये फैसला किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने तय किया है कि अलग-अलग जिलों में होने वाले पार्टी के कार्यक्रमों में उन्हें आमंत्रित कर सम्मान किया जाएगा। 

"To get the latest news update download the app"