भोपाल नगर निगम से नंदा की छुट्टी... मंत्री माया सिह की सख्त कारवाई

भोपाल| मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में नगर निगम के फर्जीवाड़ों का क्या कहना..| यहाँ तो कोई सीमा ही नहीं बची के फर्जी कामों की| भोपाल नगर निगम में सब संभव है। कभी प्रधानमंत्री के फोटो सहित विज्ञापन छापने वाले क्रेडाई के साथ कैम्प लगाने का मामला हो या फिर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गैस पीड़ितों को सब्ज बाग दिखाने का, हर मामले में निगम की भद ही पिटी है।\r\nराजधानी की बदहाल सड़कों की तस्वीर भी किसी से छिपी नही है। हर साल करोड़ो रु खर्च करने के बाद भी ये तस्वीर जस की तस है। हो भी क्यो ना, आप को यह जानकर आश्चर्य होगा कि निगम की सड़के बनाने की जिम्मेदारी वर्षों से बिजली विभाग का एक इंजीनियर संभाल रहा था। ए.के.नंदा नाम के यह इंजीनियर न जाने किसकी मेहरबानी से वर्षो तक बिजली विभाग से प्रतिनियुक्ति पर आकर निगम में मलाईदार पोस्टिंग पर जमें बैठे है।जब यह जानकारी नगरीय प्रशासन विभाग की मंत्री माया सिंह की जानकारी में आयी तो उन्होने तत्काल उच्च अधिकारियों को तलब किया और ए.के.नंदा को वापस बिजली विभाग में भेजने के निर्देश दे दिये। नंदा पर नगर निगम में रहते हुये भ्रष्टाचार के कई आरोप भी लगे है जिनकी जांच चल रही है।

"To get the latest news update download the app"