Breaking News
स्वास्थ्य विभाग में मंत्री का आदेश रद्दी की टोकरी में | मोदी सरकार के 4 साल : बैलगाड़ी, ठेला अैर साइकिल पर सवार होकर कांग्रेस ने मनाया 'विश्वासघात दिवस' | मैं सेवा की ऐसी लकीर खींचूंगा, जिसे मेरे मरने के बाद भी मिटाया न जा सकेगा : शिवराज | पुलिसवाले के दोस्त ने युवतियों से की छेड़छाड़, चप्पलों से हुई पिटाई, खाकी पर उठे सवाल | बैतूल में आज एक और किसान ने की आत्महत्या, सड़क पर शव रख ग्रामीणों ने किया चक्काजाम | MP : मोदी सरकार के चार साल, कांग्रेस मना रही 'विश्वासघात' दिवस | विश्वासघात दिवस : कांग्रेस नेता ने गिनाई मोदी सरकार की 5 नाकामियां | VIDEO : कंटेनर से जा भिड़ा पायलेटिंग वाहन, बाल-बाल बचे स्वास्थ्य मंत्री, 3 पुलिसकर्मी घायल | VIDEO : विधायक ने 'हमसफ़र' को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, पहले दिन यात्री दिखें उत्साहित | 6 जून से पहले जिलों में जाकर किसानों को मनाएंगे मुख्यमंत्री  |

नदी महोत्सव : तालाब बनाने के लिए 500 करोड़ रुपये खर्च करेगी सरकार

होशंगाबाद

मुझे तो आज भी लगता है कि जैसे स्वर्गीय अनिल माधव दवे जी मुस्कुराते हुए आएंगे और माँ नर्मदा की सेवा से जुड़े अपने समग्र विचार हम सभी के सामने रखेंगे, मन में ये भाव आता है कि अनिलजी हो सके तो लौट के जरुर आना। स्वर्गीय अनिल माधव दवे जी ने नदी महोत्सव की शुरुआत की। उनके प्रयास को हम सब आगे बढ़ा रहे हैं । मुझे प्रसन्नता है कि नर्मदा सेवा यात्रा के बाद लगाए गए वृक्षों में से 80% अभी जीवित हैं और इनमें जीवन बनाए रखने के लिए हम हर संभव प्रयास करेंगे।माँ नर्मदा की सेवा के उद्देश्य को लेकर 5 महीने से ज्यादा दिनों तक नर्मदा सेवा यात्रा निकाली गयी, जिससे नदियों के संरक्षण का विश्वव्यापी गया, इसके साथ हमने पिछले वर्ष 2 जुलाई को 6 करोड़ से ज्यादा पौधरोपण किया, इस साल भी पौधे लगाए जाएंगे। यह बात होशंगाबाद जिले के बांद्राभान में पंचम नदी महोत्सव के उदघाटन के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहीं। 

उन्होंने कहा कि  नर्मदा में यदि वृहद जलधाराएँ हमें देखनी हैं तो वृक्षों को लगाने के साथ ही हमें अधिक से अधिक तालाबों का निर्माण करना होगा जो जल को सोख कर नदियों के जलस्तर को बढ़ाने में सहायक होंगे। हमने 313 सहायक नदियों और तालाबों को पुनर्जीवित करने की तैयारी की है, हम मध्यप्रदेश के विकास के लिए माँ नर्मदा को समृद्ध बनाएंगे।मुख्यमंत्री सरोवर योजना के माध्यम से जन सहयोग से तालाब बनाने का प्रयास होगा और इसके लिए सरकार 500 करोड़ रुपये खर्च करेगी।माँ नर्मदा की कृपा से मध्यप्रदेश में कृषि पैदावार बम्पर है, हमारे सामने चुनौती है कि किसानों को उनकी उपज की सही कीमत कैसे दी जाए और उनकी आमदनी बढ़ सके, इसके लिए हम किसानों को खेती में वैल्यू एडिशन और भण्डारण के लिए प्रेरित कर रहे हैं। मध्यप्रदेश में उत्पादन की समस्या नहीं है, हमारे प्रयास हैं कि बम्पर उत्पादन का किसानों को उचित मूल्य उन्हें दिलवाया जाए, इस दिशा में नई योजना-युक्तियाँ लाने का काम हम कर रहे हैं जिससे किसानों की आमदानी बढ़े।

समग्र सत्र

समानान्तर चर्चा (समग्र सत्र) में मुख्य वक्ता के रूप में केन्द्रीय मंत्री उमा भारती जी सहित समानान्तर सत्र के अध्यक्षगण क्रमशः भारती ठाकुर, श्रीनिवास मूर्ति , अजय झा , डॉ अनिर्बन गांगुली उपस्थित रहेंगे। 17 मार्च को समापन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर , विशिष्ट अतिथि वन मंत्री डॉ गौरीशंकर शेजवार उपस्थित रहेंगे एवं इस समापन सत्र की अध्यक्षता विधानसभा के अध्यक्ष डॉ सीताशरण शर्मा करेंगे।

देश-विदेश के प्रतिभागियों ने कराया रजिस्ट्रेशन

नदी महोत्सव में नदी संरक्षण और नदी पर चर्चा के लिए देश-विदेश से लगभग 350 प्रतिभागियों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। पहले दिन 16 मार्च को सुबह 9 से 10:30 बजे तक पंजीयन कार्य किया जाएगा। इसी दिन शुभारंभ कार्यक्रम के बाद दोपहर 2 से शाम 4 बजे तक समानांतर सत्र होगा। सत्र में नदी किनारे की संस्कृति और समाज, नदी, कृषि और आजीविका का परस्पर संबंध, नदी का अस्तित्व और जैव विविधिता तथा सहायक नदियों का संरक्षण, नीतियाँ नियम और संभावनाओं पर विमर्श होगा। शाम 4:30 से 6:30 बजे तक समग्र सत्र होगा। इसके बाद नदी से संवाद अर्थात नर्मदाष्टक का गान किया जाएगा। शाम 7 से रात 8 बजे के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम होगा। दूसरे दिन 17 मार्च को सुबह 10 बजे बांद्राभान में सामूहिक बैठक एवं अनुभव कथन के बाद पूर्वान्ह 11:30 बजे महोत्सव का समापन होगा।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...