Breaking News
स्वास्थ्य विभाग में मंत्री का आदेश रद्दी की टोकरी में | मोदी सरकार के 4 साल : बैलगाड़ी, ठेला अैर साइकिल पर सवार होकर कांग्रेस ने मनाया 'विश्वासघात दिवस' | मैं सेवा की ऐसी लकीर खींचूंगा, जिसे मेरे मरने के बाद भी मिटाया न जा सकेगा : शिवराज | पुलिसवाले के दोस्त ने युवतियों से की छेड़छाड़, चप्पलों से हुई पिटाई, खाकी पर उठे सवाल | बैतूल में आज एक और किसान ने की आत्महत्या, सड़क पर शव रख ग्रामीणों ने किया चक्काजाम | MP : मोदी सरकार के चार साल, कांग्रेस मना रही 'विश्वासघात' दिवस | विश्वासघात दिवस : कांग्रेस नेता ने गिनाई मोदी सरकार की 5 नाकामियां | VIDEO : कंटेनर से जा भिड़ा पायलेटिंग वाहन, बाल-बाल बचे स्वास्थ्य मंत्री, 3 पुलिसकर्मी घायल | VIDEO : विधायक ने 'हमसफ़र' को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, पहले दिन यात्री दिखें उत्साहित | 6 जून से पहले जिलों में जाकर किसानों को मनाएंगे मुख्यमंत्री  |

बिजली के तार टूटने पर भड़की चिंगारी, खेतों में खड़ी लाखों की फसल जलकर खाक

होशंगाबाद।

मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले के तीन गांवों में शुक्रवार को करीब 110 एकड़ में लगी फसल आग लगने से जलकर खाक हो गई। आग की घटना बनखेड़ी ब्लॉक के पांच गांवों बम्होरी , भैरोपुर, माखननगर  कोसकरपा आदि में हुई। बताया जा रहा है कि पलिया पिपरिया में विद्युत तार टूटकर गेहूं के खेत में गिर गया, जिससे नरवाई में आग लग गई और देखते ही देखतेफसलों ने आग पकड़ ली। आग ने धीरे धीरे विकराल रुप ले लिया और टार सर्किट, कृषि यंत्र औऱ झोपडी को भी अपनी चपेट में ले लिया। आग की सूचना दमकल को दी गई, लेकिन जब तक दमकल आग पर काबू पाती तब तक 80  प्रतिशत फसल जलकर राख हो चुकी थी।आग की घटना की जानकारी लगती ही राजस्व विभाग से नायाब तहसीलदार, पटवारी प्रकाश बिलासपुरिया, याकूब खान ने पंचनामा बनाया। 

इस आग में करीब 25 किसानों की फसल जलकर खाक हो गई। हालांकि अभी तक फसलों का आकलन नही किया गया कि कितना नुकसान हुआ है। लेकिन करीब पचास लाख का नुकसान होना बताया जा रहा है। इस आग ने किसानों की परेशानी एक बार और बढ़ा दी है। किसानों पर संकट के बादल मंडराने लगे है। 

किसानों ने इसकी सूचना पुलिस को दी है और मुआवजे की मांग की है।किसानों का आरोप है कि सूचना के बाद भी बिजली विभाग के अधिकारी कर्मचारी यहां नही पहुंचे। गुरुवार को भी राइखेड़ी पाली में आधा दर्जन से अधिक किसानों की 15  से 20  एकड़ फसल बिजली शार्ट सर्किट से स्वाहा हो गई थी। किसानों का कहना है कि यदि  इसका मुआवजा नही मिला तो हम अपने बच्चों के साथ आत्म हत्या कर लेंगे । पहले से ही सिर पर कर्जा है और परिवार चलाना है , ऐसे में फसल बर्बाद हो गई।हमारे पास अब आत्महत्या के अलावा कोई चारा नही है।

पुलिस ने इस मामले में कुछ लोगों पर मामला भी दर्ज किया है। फिलहाल मामले की जांच की जा रही है। जांच के बाद ही खुलासा हो पाएगा कि असल में आग कैसे लगी और कितना नुकसान हुआ।



  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...