बिजली वितरण व्यवस्था में इंदौर बना नंबर वन

इंदौर। आकाश धोलपुरे।

  इंदौर देश के सब से स्वच्छ शहरों में शुमार है वही इंदौर की पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी भी देश की अव्वल बिजली स्पालय करने वाली  कम्पनियो में शुमार हो गई है जिसने सौभाग्य योजना के अंतर्गत 15 जिलों में घर- घर तक बिजली पहुंचा दी।  देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के  कोने तक बिजली पहुंचाने का आव्हान किया था, और उसी के तहत  देश की सभी विद्युत वितरण कम्पनी को सौभाग्य योजना के माध्यम से  देश के प्रत्येक घरो तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य दिया था। इस लक्ष्य के माध्यम से देश की कई कम्पनिया देश के कोने कोने में बिजली पहुंचाने का प्रयास कर रही थी, उन कम्पनियो में यूपी , बिहार , उड़ीसा , राजस्थान , छत्तीसगढ़  और मध्यप्रदेश की बिजली कंपनियां भी शामिल थी। इन सभी कम्पनियो को अपने लक्ष्य तक पहुंचने के लिए दिसंबर 2018 तक का टारगेट दिया था। उसी टारगेट का  पीछा करते हुए  इंदौर पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी ने टारगेट को पूरा कर लिया और देश की अग्रणी कम्पनियो में शामिल हो गई है। पशिचम विद्युत वितरण कम्पनी  ने सौभाग्य  योजना के अंतर्गत 15 जिलों में  दिसंबर 2018 से पहले ही लक्ष्य पूरा कर लिया। पश्चिम विद्युत वितरण कम्पनी ने  30 जुलाई से 2018 तक ही इस लक्ष्य को पूरा कर देश की बिजली कपंनियों में एक अलग मुकाम बना लिया है। पश्चिम विद्युत वितरण कंपनी के सीएमडी आकाश त्रिपाठी ने बताया कि सौभाग्य योजना को पूरा करने के लिए पश्चिम विधुत वितरण कम्पनी के अधिकारी और कर्मचारियों ने लगातार 15 जिलों के दौरे किया और जहां पर लाइट नहीं थी या फिर डीपी और केबल के कारण बिजली उन घरो या क्षेत्रों तक नहीं पहुंच पा रही थी।  उन सभी  घरो तक बिजली पहुंचाने की व्यवस्था की।वही उन्होंने बताया कि धार , झाबुआ , अलीराजपुर , देवास , रतलाम आदि जगहों पर ऐसी जगह भी शामिल है जहा काफी काम करना पड़ा और बिजली पहुंचाने की व्यवस्था करनी पड़ी।  फिलहाल इस तरह से काम करते हुए पश्चिम विद्युत  वितरण कम्पनी ने निर्धारति  अवधि से छः महीने पहले ही टारगेट तक पहुंच गई। वही सौभाग्य योजना के साथ पश्चिम विद्युत विधुत वितरण कम्पनी के साढ़े पैतीस लाख उपभोक्ताओं  हो गए है। फिलहाल पश्चिम विद्युत वितरण कम्पनी देश की पहली कम्पनी हो गई है, जिसने प्रधानमंत्री की योजना को शत प्रतिशत पूरा समय अवधि से पहले ही पूरा कर दिया है।