Breaking News
अब मंत्री-परिषद के सदस्य उतरेंगें सड़कों पर, जनता को समझाएंगे 'सड़क सुरक्षा' के नियम | 28 सितंबर को फिर भारत बंद का ऐलान, इसके पीछे ये है वजह | 12वीं पास के लिए सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका, जल्द करें अप्लाई | शर्मनाक : युवक की हत्या के शक में महिला को निर्वस्त्र कर घुमाया, पथराव-आगजनी, 8 पुलिसकर्मी सस्पेंड | शिवराज कैबिनेट की बैठक खत्म, इन अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी | मॉर्निंग वॉक के दौरान EOW इंस्पेक्टर की मौत, हार्ट अटैक की आशंका | अखिलेश की नजर अब मप्र पर, 3 सितंबर को आएंगें इंदौर | अटल जी के निधन पर पूरे देश में शोक और भाजपा नेता निकाल रहे डीजे यात्रा : कांग्रेस | VIDEO : मोबाईल टॉवर पर चढ़ा शराबी, मचा रहा हंगामा, नीचे उतारने में जुटी पुलिस | चुनावी साल में शिवराज सरकार का मास्टर स्ट्रोक, कुपोषण मिटाने खर्च करेगी 57 हजार करोड़ |

कल्पेश याग्निक सुसाइड मामला : मीडिया के सवालों से बचती रही सलोनी, 5 दिन पुलिस रिमांड पर

इंदौर।आकाश धौलपुरे।

इंदौर के बड़े अखबार समहू के संचालज कल्पेश याग्निक सुसाइड केस में पुलिस गिरफ्त में आई सलोनी अरोरा को रविवार को इंदौर पुलिस ने कोर्ट में पेश किया जहां पुलिस ने कोर्ट के सामने पुलिस रिमांड की मांग की जिसके बाद कोर्ट ने सलोनी अरोरा को 5 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया है।  पुलिस रिमांड के बाद मामले की परत का खुलासा होने की संभावना बनी है। कोर्ट ले जाने के पहले इंदौर पुलिस ने सलोनी की गिरफ्तारी मामले में प्रेस कांफ्रेंस ली थी। जिसमे पुलिस के आला अधिकारियों ने वरिष्ठ पत्रकार के सुसाइड मामले में प्रारंभिक तौर कई जानकारी मीडिया को दी थी।

सलोनी अरोरा के कोर्ट जाने के पहले प्रेस कांफ्रेंस

13 जुलाई की रात को देश के एक बड़े अखबार के समहू संपादक कल्पेश याग्निक ने सामाजिक प्रतिष्ठा धूमिल होने के डर और महिला पत्रकार सलोनी अरोरा द्वारा ब्लैकमेल किये जाने के डर से आखिरकार मौत को गले लगा लिया था और दफ्तर की छत से कूदकर जान दे दी थी। इसके बाद उन्हें बॉम्बे हॉस्पिटल ले जाया गया था इसके बाद ख्यात पत्रकार कल्पेश याग्निक के परिजनों और मित्रो ने मामले की तह तक जाने के लिए पुलिस की शरण की और खुलासा हुआ कि कल्पेश याग्निक की आत्महत्या थी ना कि नेचरल डेथ लिहाजा पुलिस को अब सलोनी अरोरा की तलाश थी जिसे कल मुंबई के रेस्त्रां के बाहर से पुलिस गिरफ्तार करने का दावा कर रही है। रविवार को इस मामले में मीडिया से बात करते हुए आत्महत्या के लिए  मजबूर करने और ब्लैकमेल करने वाली सलोनी अरोरा को सामने लाया गया। इंदौर डीआईजी हरिनारायण चारि मिश्र ने बताया कि सलोनी अरोरा को जब इन बात की भनक लगी तो वो अलग अलग राज्यो में चिपटी रही। वो कभी  मुंबई तो कभी दिल्ली, कभी पुणे तो कभी गोआ और मेरठ जैसे शहरों में पुलिस से बचती रही हालांकि कई बार ऐसे मौके भी आये की पुलिस उंसके नजदीक पहुंच गई लेकिन 10 हजार की इनामी आरोपिया आखिर में बचने में सफल रही। एडिशनल एस.पी. शैलेंद्र सिंह चौहान के नेतृत्व में गठित की गई टीम ने आखिरकार एमआईजी थाना प्रभारी तहज़ीब काजी के नेतृत्व में महिला पुलिसकर्मियों के दल ने उसे मुंबई से गिरफ्तार कर लिया। डीआईजी ने बताया कि सलोनी पर 386,503, 306,  भादवि 67,68  आईटी एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया है। 5 करोड़ रुपए और दोबारा नौकरी पर रखने के लिए दबाव बनाने वाली साथ ही सामाजिक प्रतिष्ठा धूमिल कर बलात्कार जैसे संगीन आरोप लगाकर बदनाम करने की धमकी देने वाली सलोनी अब सलाखों के पीछे है। आज मीडिया के सामने आने के पहले घबराई हुई सी नजर आ रही थी इतना ही कई बार उंसके चेहरे से नकाब उतारने के लिए भी वो तैयार नही थी। फिलहाल, सलोनी गिरफ्तार हो चुकी है अब इंतजार है तो बस इन बात का की कानून उसे क्या सजा देता है।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...