VIDEO : सड़कों पर उतरे रिक्शा चालक, आरपीएफ एसआई पर लगाए मारपीट के आरोप

इंदौर।आकाश धौलपुरे।

 रेल्वे जंक्शन रिक्शा चालकों ने शनिवार शाम को जमकर हंगामा मचाया और आरपीएफ उपनिरीक्षक अमित कुमार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। दरअसल, रिक्शा चालकों की माने तो एक रिक्शा चालक की गलती के बाद आरपीएफ उपनिरीक्षक ने तकरीबन 25 से ज्यादा रिक्शा चालकों की बेरहमी से पिटाई कर दी यही नही उन्हें पीटने के बाद उनके चालान भी बनाये और उसकी रसीद भी नही दी गई। रिक्शा चालक  फिरोज खान की माने तो और शनिवार सुबह पूना गाड़ी जब इंदौर पहुंची थी सवारी पकड़ रहे थे। और सवारी पकड़ने के लिए रिक्शा चालक गेट के अंदर चले जाते है क्योंकि सवारियों को पकड़ने के लिये रिक्शा चालकों में कॉम्पिटिशन बढ़ गया है। रिक्शा चालकों का कहना है बिना प्लेटफॉर्म टिकिट के हमे पकड़ा है तो प्रावधान है की चालानी कार्रवाई कर, रसीद काटकर हमे छोड़ना चाहिए। घटना शनिवार सुबह की है की जव एक रिक्शा चालक का विवाद किसी सवारी से हो गया तो उसे पकड़ने के बजाय सभी को पकड़ लिया गया जो कि गलत है जबकिआरपीएफ कैमरे में देख कर पर दोषी पर कार्रवाई करती एक कि सजा सब को दी गई। रिक्शा चालक फिरोज खान ने बताया कि 25 से 30 चालको को पकड़ा उनमें से जिनकी पहचान थी उन चार पांच लोगों को छोड़ दिया बाकी चालको से जमकर मारपीट कर दी। अक्सर आरपीएफ पुलिस रिक्शा चालकों को परेशान करती है। वही चलानी रसीद के नाम हर रिक्शा चालक से 680 रुपए लिए गए और सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक थाने में बिठा लिया और जमकर मारपीट की गई। मारपीट के चलते रिक्शा चालकों के हाथ पैर में सूजन आ गई है। लिहाजा शनिवार शाम को थाने से छूटने के बाद रिक्शा चालकों ने रेल्वे जंक्शन के बाहर जमकर नारेबाजी की और आरपीएफ उपनिरीक्षक को पूरी घटना का जिम्मेदार बताया। इस मामले को लेकर जल्द ही मुख्यमंत्री और रेल्वे एसपी से घटना की शिकायत करेंगे और उपनिरीक्षक अमित कुमार पर कार्रवाई की मांग करेंगे। इधर, रविवार सुबह भी चालको ने घटना की निंदा कर नियम विरुद्ध कार्रवाई पर रोष जताया।