यूनीपोल और मोनोपोल लगाने के टेंडर में 10 करोड़ का भ्रष्टाचार!

जबलपुर | कांग्रेस पार्षद दल ने शहर में आउटडोर पब्लिसिटी के यूनीपोल और मोनोपोल लगाने के टेंडर जारी करने में 10 करोड़ रुपयों के भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। दरअसल एक तरफ जबलपुर रेलवे स्टेशन में सिर्फ सौ वर्गफुट की जगह विज्ञापन के लिए 3 लाख रुपये सालाना किराए पर दी गई है जबकि जबलपुर नगर निगम ने पूरे शहर में यूनिपोल और मोनोपोल लगाने का ठेका एक कम्पनी को सिर्फ साढ़े तीन लाख रुपयों में दे दिया है। कांग्रेस पार्षद दल ने टेंडर जारी करने में भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए दावा किया है कि इससे नगर निगम को दस करोड़ रुपयों की राजस्व हानि होगी। 

मामले में नगर निगम पर हाईकोर्ट को भी गुमराह करने के आरोप लगे हैं क्योंकि शहर में अवैध होर्डिंग्स मामले पर नगर निगम ने यूनिपोल के टेण्डर 3 साल के लिए जारी करने की जानकारी दी है जबकि हकीकत में साढ़े तीन लाख रुपयों की सालाना दर पर ये टेंडर 10 सालों के लिए पास कर दिए गए हैं। कांग्रेस पार्षद दल ने आरोप लगाया है कि टेंडर जारी करने में नगर निगम ने आउटडोर पब्लिसिटी के लिए डेढ़ सौ रुपये वर्गफुट न्यूनतम दर वसूलने के भी पालन नहीं किया। कांग्रेस पार्षद दल ने टेंडर रदद् करने की मांग करते हुए पूरे मामले की शिकायत लोकायुक्त में दर्ज करवाने की बात की है। इधर जबलपुर नगर निगम के कमिश्नर चन्द्र मौली शुक्ला ने कांग्रेस पार्षदों के आरोपों पर जांच करवाने का आश्वासन दिया है।