छात्राएं सीख रही आत्मरक्षा के गुर, सेल्फ डिफेंस की ट्रेनिंग देने जुटी महिला

जबलपुर|  प्रदेश मे लगातार बढ़ रहे बेटियो पर अपराधो को लेकर भले ही प्रदेश सरकार चितिंत न हो पर इन अपराधो को रोकने के लिए कोई है जो कि इन बेटियों को सेल्फ ड़िफेंस देकर ये तकनीक सिखा रही है कि किस तरह से शौहदो औऱ छेड़खानी करने वाले लड़को से निपटना है।हम बात कर रहे है जबलपुर की एक महिला जिसका नाम है अंजूलता गुप्ता| अंजूलता गुप्ता बीते तीन माह से स्कूल कॉलेज की छात्राओ को सेल्फ ड़िफेंस की ट्रेनिंग दे रही है। खास बात ये है कि इस ट्रेनिंग के लिए उन्होने जिला प्रशासन से किसी भी तरह की मदद नही ली और अपनी ही दम पर करीब एक हजार से ज्यादा लड़कियों को सेल्फ ड़िफेंस के जारिए खुद की सुरक्षा कैसे करना है वो सिखा रही है। 

ट्रेनिंग लेने में कुछ ऐसी भी लडकिया है जो कि इस सेल्फ डिफेंस तकनीकी को सीख कर क्षेत्रो मे दूसरे लड़कियो को ये सीखा रही है और खुद भी स्वारोजगार से जुड़ गई है।जुलाई से शुरु हुई अंजूलता गुप्ता की इस ट्रेनिंग मे अभी तक दो हजार से ज्यादा लड़कियों ने ट्रेनिंग ले चुकी है जबकि वर्तमान मे करीब नौ सौ से ज्यादा छात्राऐं ट्रेनिंग को निरंतर कर भी रही है।शहर के करीब आधा दर्जन से ज्यादा स्कूल और कुछ कॉलेजो में ट्रेनर अंजूलता अपने साथी ट्रेनर के साथ इस तरह की क्लास चला रही है।ट्रेनर अंजुलता की माने तो उनका लक्ष्य है कि पाँच हजार से ज्यादा छात्राओ को आत्मरक्षा के लिेए आगे लाना है।बहरहाल जिस तरह से देश-प्रदेश मे लड़कियो के साथ होने वाली घटनाओं मे बढ़ावा हो रहा है उसको देखते हुए ये कहा जा सकता है कि अंजूलता गुप्ता के द्रारा दी जा रही ये ट्रेनिंग इन लड़कियों के लिए एक मील का पत्थर साबित होगी।