टिकट के लिए शुरू हुआ घमासान, 4 विधानसभा सीटों पर 68 दावेदार

जबलपुर| चुनाव नजदीक आते ही सियासी घमासान शुरू हो चुका है, पार्टियां टिकट फायनल करने में जितना वक्त ले रहे हैं, उतनी ही तेजी से टिकट के दावेदार भी बढ़ते जा रहे हैं|आपको जानकर हैरानी होगी कि जबलपुर ग्रामीण की 4 विधानसभा सीटों से कांग्रेस के 68 नेताओं ने अपनी दावेदारी ठोंकी है| टिकट के इन दावेदारों ने अपना बायोडेटा पार्टी संगठन को भेजा था जिनसे, पार्टी के राष्ट्रीय सचिव और मध्यप्रदेश के सह प्रभारी हर्षवर्धन सकपाल ने जबलपुर आकर वन-टू-वन चर्चा की| 

हर्षवर्धन सकपाल के साथ कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय पर्यवेक्षक अब्दुल हन्नान भी थे जिन्होने जबलपुर के भेड़ाघाट में एक निजी होटल में टिकट के दावेदारों से लंबी चर्चा की| जबलपुर की ग्रामीण सीटों से दावेदारों की तादाद को देखकर दोनों ही नेता हैरान नज़र आए| यहां जबलपुर की बरगी सीट से 31, पनागर सीट से 22, पाटन सीट से 8 जबकि सिहोरा सीट से 7 कांग्रेस नेताओं ने टिकट की दावेदारी पेश की है| 

दावेदारों से इस वन-टू-वन चर्चा के दौरान भेड़ाघाट में कांग्रेस नेताओं का मजमा लग गया| यहां कुछ दावेदार बाहरी दावेदारों का विरोध करते नज़र आए तो कुछ ने अपनी दावेदारी मजबूत बताते हुए भी फैसला पार्टी संगठन पर छोड़ा और मिलजुल कर चुनाव लड़ने की बात कही| पर्यवेक्षक अब्दुल हन्नान ने दावेदारों की इतनी बड़ी तादात को पार्टी के लिए अच्छा बताया है और टिकटार्थियों को एकजुटता से चुनाव लड़ने का मंत्र दिया है... वहीं कांग्रेस के प्रदेश सह प्रभारी हर्षवर्धन सकपाल ने कहा कि राहुल गांधी की मंशा पर कांग्रेस पार्टी ने इस बार कई बदलाव किए हैं और मासबेस पार्टी से कैडर बेस पार्टी बन रही कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनाव में अपनी एकजुटता से ना सिर्फ बीजेपी को कड़ी टक्कर देगी बल्कि प्रदेश में सरकार भी बनाएगी।