आपत्तिजनक हालत में पति ने पकड़ा तो प्रेमी संग पत्नी ने उतार दिया मौत के घाट, फिर बनाई यह कहानी

जबलपुर| थाना माढ़ोताल के पड़वार कला गाँव मे 30 सितम्बर को हुई रामशंकर की हत्या का पुलिस ने आज खुलासा कर दिया है। रामशंकर की हत्या में उसकी पत्नी अंजू और उसका प्रेमी सुरेंद्र शामिल था।  अंजू सुरेंद्र के खेत मे काम किया करती थी तभी दोनो के आपस मे प्रेम संबंध बन गए आम तौर पर दोनो आपस मे हमेशा मिला करते थे। घटना वाले दिन जब अंजू सुरेंद्र के साथ एक कमरे में थी तभी रामशंकर ने आपत्तिजनक हालत में देख लिया था, इसके बाद रामशंकर ने विवाद शुरू कर दिया जिसके चलते अंजू ने रामशंकर के हाथ पकड़े और सुरेंद्र ने उसकी गला दबाकर हत्या कर दी। 

घटना के बाद अंजू ने कुछ इस तरह की भूमिका बनाई की उसका इस हत्या से कोई भी वास्ता नही है। इस बीच आशीष चढार जो कि रामशंकर का बेटा है उससे पुलिस ने पूछताछ की तो उसने खुलासा किया कि वह गॉव मे ही स्टोर मे ट्रक में लोडिंग/अनलोडिंग का काम करता है, हमेशा देर रात वापस लौटता है, 30- को रात 2 बजे घर वापस लौटा था हमेशा की तरह बाहर रखी चाबी से बाजू वाले कमरे का ताला खोलकर सोने की तैयारी कर रहा था तभी देखा कि गॉव का सुरेन्द्र तिवारी उसकी मॉ के कमरे से निकलकर बाहर चला गया। उसकी मॉ अंजू उर्फ सुमन चढार सुरेन्द्र तिवारी के घर पर घरेलू काम करती है, उसकी मॉ एवं सुरेन्द्र तिवारी के बीच मधुर सम्बंध थे। 

यह जानकारी लगते ही सुरेन्द्र तिवारी को अभिरक्षा मे लेते हुये सघन पूछताछ की गयी तो सुरेन्द्र तिवारी ने बताया कि गॉव की अंजू उर्फ सुमन चढार उसके घर पर काम करने आती थी, जिसने बताया कि पति रमाशंकर चढार उस पर शंका करता है कि मेरे तुमसे नाजायज सम्बंध है, आये दिन परेशान करता है। उसने सुमन चढार के साथ मिलकर रमाशंकर चढार को मारने की योजना बनाई, योजना के मुताबिक रात लगभग 12 बजे पहुचा तो रमाशंकर चढार जाग गया जो उससे विवाद करने लगा, उसी समय सुमन चढार ने अपने पति को पीछे से पकड लिया, तो उसने गला दबाकर हत्या दी, और वहॉ से चला गया।