Breaking News
जेल की हवा खाने वाली 'भांजियों' को नहीं मिलेगी ऊंचाई में छूट! | कैबिनेट बैठक, इन अहम प्रस्तावों को मिली मंजूरी | आईएएस दीपाली रस्तोगी का नया फरमान फिर चर्चाओं में.. | आईएएस दीपाली रस्तोगी का नया फरमान फिर चर्चाओं में.. | कांग्रेस के पोस्टर वॉर पर बोले पवैया- सूत न कपास, जुलाहों मैं लट्ठमलट्ठा | अगला CM कौन... 'सिंधिया' या 'कमलनाथ', पोस्टर वॉर से कांग्रेस में मचा घमासान | जूडा का अनोखा विरोध, MYH के सामने लगाई समानांतर ओपीडी | संगठन नहीं शिवराज के चेहरे पर ही चुनाव लड़ेगी भाजपा | अटकलों पर लगा विराम, किसी भी कीमत पर नही बिकेगा किशोर कुमार का पुश्तैनी घर | अंतर्राज्यीय चंदन तस्कर गिरोह का पर्दाफाश, वर्दी का रौब दिखाकर करते थे तस्करी |

झाबुआ के किसानों से PM का सीधा संवाद, 'चंपा' ने बताया कड़कनाथ पालन से आय हुई एक लाख

झाबुआ| सरकार की योजनाओं और किसानों के नवाचार पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज नमो एप के माध्यम से किसानों से चर्चा की। इस चर्चा में जिले के किसान भी शामिल हुए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिले की 2 महिलाओं समेत 4 किसानों से बात की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों से उनके अनुभव व सरकार की योजनाओं के क्रियांन्वयन बारे में चर्चा कर दूसरे किसानों को प्रेरित करने का आव्हान किया। 

प्रधानमंत्री से बात कर सभी किसान खासे उत्साहित नज़र आए। जिले के भगौर ग्राम के मुकेश खपेड़ और राजू हटिला ने प्रधानमंत्री से सरकार की कस्टम हायरिंग योजना के बारे में बात की जिसमें उन्हे सरकार से 50 फीदसी अनुदान पर कृषि यंत्र खरीदे और आज वे बेहतर आमदनी ले रहे है। ग्राम उमरकोट की महिला किसान नेहा राठौड़ को उद्यानिकी विभाग द्वारा ड्रीप इरिगेशन से मिली मदद मिली थी, इससे आमदनी में हुए इजाफे के बारे में प्रधानमंत्री को महिला किसान नेहा द्वारा जानकारी दी गई। इस पूरी चर्चा में ग्राम धमोई की महिला किसान चंपा निनामा से प्रधानमंत्री ने काफी देर बात की। चंपा निनामा कड़कनाथ मुर्गों का पालन करती है। कड़कनाथ पालन से उन्हे हुए लाभ के बारे में चंपा निनामा ने प्रधानमंत्री को जानकारी दी। इस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चंपा निनामा को दूसरे किसानों को भी तकनिक सिखाने का आव्हान किया। इस कार्यक्रम की निगरानी के लिये केंद्रीय कृषि विभाग के संयुक्त सचिव अश्विनी कुमार विशेष रूप से कांफ्रेंसिंग रूम में मौजुद थे।

सरकार की कल्याणकारी योजनाओं पर जनता से सीधी बातचीत के तहत पीएम ने 600 जिलों के किसानों की बात सुनी और उन्हें अपनी बात बताई। उन्होंने कहा कि 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए कृषि क्षेत्र का बजट 2.12 लाख करोड़ कर दिया गया है, जबकि पिछली सरकार ने 2009-14 के बीच 1.21 लाख करोड़ का प्रïवधान किया था। पिछली सरकार के मुकाबले उनकी सरकार का कृषि बजट लगभग दोगुना है।



  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...