Breaking News
कांग्रेसी विधायक ने मर्यादाएं की तार-तार | विधानसभा चुनाव के लिए 'आप' ने जारी की पांचवी लिस्ट, यह होंगे प्रत्याशी | CM की PC: केरल बाढ पीड़ितों को 10 करोड़ की आर्थिक सहायता, अटल जी को लेकर भी कई ऐलान | भितरघात की चिंता: दावेदारों से भरवाए शपथ पत्र, 'टिकट नहीं मिली तो भी पार्टी हित में काम करूंगा' | राहुल गांधी का ऐलान- केरल बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए 1 महीने की सैलरी देंगे कांग्रेस के सांसद-विधायक | MP : इन दो महिला आईएएस के निशाने पर 'भ्रष्ट-लापरवाह' अधिकारी | MR.बैचलर बनकर हाईप्रोफाइल लड़कियों को निशाना बनाता था लुटेरा दूल्हा, 4 राज्यों में थी तलाश | पुलिस को पीटने वाले थाने से ससम्मान विदा, नशे में धुत लड़कियों ने हाईवे पर मचाया था उत्पात | Asian Games 2018 : आज से होगा एशियन गेम्स का रंगारंग आगाज, इतिहास रचने को तैयार भारत | दो सांसदों की चिट्ठी के बीच अटकी शिप्रा एक्सप्रेस! |

VIDEO: इस आईपीएस के जुनून ने बंजर पहाड़ी को भी हरा-भरा कर डाला

भोपाल/झाबुआ| जोश और जज्बा हो कुछ कर दिखाने की तमन्ना हो तो इंसान क्या नहीं कर सकता ।मध्य प्रदेश सरकार के एक IPS अधिकारी ने एक ऐसा ही करिश्मा कर दिखाया है। झाबुआ के एसपी महेश चंद जैन 2016 के अंत में जब झाबुआ पदस्थ हुए तो उन्होंने देखा कि पासी स्थित हाथीपांव पहाड़ी बंजर पड़ी हुई है। शुरू से ही पर्यावरण के प्रेमी रहे जैन ने इस पहाड़ी पर पेड़ लगाकर उसे हरा भरा करने का जब संकल्प लोगों को बताया तो लोगों ने यह कह कर मना कर दिया कि इससे पहले कई प्रयास हो चुके हैं लेकिन सब असफल रहे हैं। यहां तक कि पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय अब्दुल कलाम और मुरारी बापू जैसी हस्तियां भी यहां वृक्षारोपण कर चुकी है लेकिन पहाड़  की भूमि पर्यावरण के अनुकूल न होने के कारण यह प्रयास असफल हुए हैं। लेकिन जैन तो मन में ठान चुके थे तो उन्होंने प्रयास शुरू किए । 

पहाड़ पर एसपी से लेकर सिपाही तक ने चार चार फिट गहरे गड्ढे खोदे और इन गड्ढों की मिट्टी हटाकर पास की ही एक तालाब से लाई गई मिट्टी उन गड्ढों में डाली। उसके बाद शुरू हुआ पहाड़ पर पौधे लगाने का सिलसिला जो अब तक जारी है। 2017 से लगाए गए कई पौधों  सात से आठ फुट के हो चुके हैं और पूरे पहाड़ को हरा-भरा दिखा रहे हैं ।जैन ने अभी  दो दिन पहले भी अपने जन्मदिन पर 52 पौधे लगाकर अपना 52 वा जन्मदिन मनाया। जिस बंजर पहाड़ी पर किसी पशु या पक्षी का नामोनिशान नहीं मिलता था' हरियाली देखकर अब वहां मोरों के झुंड तक आने लगे हैं। सामाजिक सरोकार से जुड़ी जैन की अभिनव पहल पूरे प्रदेश और देश के लिए एक अद्भुत मिसाल बन गई है।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...