Breaking News
फ्लॉप रहा कांग्रेस का 'घर वापसी' अभियान, सिर्फ कार्यकर्ता लौटे, नेताओं ने बनाई दूरी | शिवराज कैबिनेट की बैठक ख़त्म, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर | सीएम चेहरे को लेकर सोशल मीडिया पर जंग, दिग्विजय भड़के | मुख्यमंत्री के काफिले पर पथराव, महिदपुर- नागदा के बीच की घटना, पुलिस वाहन के कांच फूटे | अब भोपाल में राहुल ने फिर मारी आंख, वीडियो वायरल | एमपी की 148 सीटों पर खतरा, बिगड़ सकता है बीजेपी का चुनावी गणित | LIVE: ऊपर से टपकने वाले को नहीं मिलेगा टिकट : राहुल गांधी | राहुल की सभा में उठी सिंधिया को सीएम कैंडिडेट घोषित करने की मांग | राहुल के भोपाल दौरे पर वीडियो वार..'कांग्रेस हल है या समस्या' | कांग्रेस का शक्ति प्रदर्शन: 11 कन्याओं ने उतारी राहुल की आरती, 21 पंडितों ने किया मंत्रोचार |

संविदाकर्मियों का अनोखा विरोध, मेहंदी से हाथों पर लिखवाया ‘कमल का फूल हमारी भूल’

झाबुआ

प्रदेशभर में संविदाकर्मियों का सातवें दिन भी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है।हड़ताल के छंटवे दिन महिला व पुरुष स्वास्थ्य कर्मचारियों ने मेहंदी से अपनी हाथों पर हमारी भूल-कमल का फूल लिखवाया और जमकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।जहां सरकार की तरफ से संविदाकर्मियों को कोई आश्वासन नही दिया गया वही हड़ताल के चलते मरीजों को आए दिन परेशानियाों का सामना करना पड़ रहा है।इसके साथ ही आज शिप्रा से संविदा एकात्म दांडी यात्रा निकाली गई, जिसमें भाग लेने के लिए 50 लोगों का दल झाबुआ से रवाना हुआ।

दरअसल, अपनी मांगों को लेकर संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी अधिकारी संघ पिछले छह दिनों से आंदोलनरत है। हड़ताल के चलते शासकीय कार्य प्रभावित हो रहे हैं। नियमितिकरण की मांग लिए हुए संविदाकर्मी आए दिन नए नए तरीकों से सरकार का विरोध कर रहे है।कुछ ऐसा ही अनोखा विरोध शनिवार को देखने को मिला।विरोध कर रहे संविदाकर्मियों ने मेहंदी से अपने अपने हाथों पर लिखवाया कि 'कमल का फूल हमारी भूल'। इसके साथ ही सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

इस विरोध के चलते स्वास्थ्य सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हो रही है। शनिवार को राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत 7 हजार बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण नहीं हुआ है। 150 टीकाकरण केंद्रों पर टीकाकरण व माताओं की जांच प्रभावित हुई है। एनआरसी पूर्णतः बंद है। कुपोषित बच्चों की हालत गंभीर है। राष्ट्रीय कृमि मुक्त भारत की रिपोर्ट अटकी हुई है। ट्यूबरकुलोसिस मरीजों की न तो जांच हो रही और ना ही औषधि का वितरण हो रहा है। 


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...