Breaking News
विधानसभा का आखिरी सत्र कल से, 5 दिवसीय सत्र में पूछे जाएंगे 1376 सवाल | मानसून सत्र: सरकार को घेरने विपक्ष की रणनीति तैयार, PCC चीफ बोले- 5 साल का हिसाब मांगेंगे | ग्रामीण से रिश्वत लेते रोजगार सहायक कैमरे में कैद, वीडियो हुआ वायरल | जब आदिवासियों संग मांदल की थाप पर थिरके शिवराज, देखें वीडियो | MP : कांग्रेस में 3 नई समितियों का गठन, चुनाव घोषणा पत्र में कर्मचारी नेता को मिली जगह | BIG SCAM : PNB के बाद एक और बैंक में घोटाला, तीन अधिकारी सस्पेंड | IPS ने बताया डंडे के फंडे से कैसे होगा पुलिसवालों का TENSION दूर! | कपड़े दिलाने के बहाने किया मासूम को अगवा, बेचने से पहले पुलिस ने रंगेहाथों पकड़ा | इग्लैंड में अपना जलवा दिखाने पहुंचे 4 भारतीय दिव्यांग तैराक, इंग्लिश चैनल को करेंगें पार | VIDEO : केरवा कोठी पर भाजपा महिला मोर्चा का प्रदर्शन |

संविदाकर्मियों का अनोखा विरोध, मेहंदी से हाथों पर लिखवाया ‘कमल का फूल हमारी भूल’

झाबुआ

प्रदेशभर में संविदाकर्मियों का सातवें दिन भी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है।हड़ताल के छंटवे दिन महिला व पुरुष स्वास्थ्य कर्मचारियों ने मेहंदी से अपनी हाथों पर हमारी भूल-कमल का फूल लिखवाया और जमकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।जहां सरकार की तरफ से संविदाकर्मियों को कोई आश्वासन नही दिया गया वही हड़ताल के चलते मरीजों को आए दिन परेशानियाों का सामना करना पड़ रहा है।इसके साथ ही आज शिप्रा से संविदा एकात्म दांडी यात्रा निकाली गई, जिसमें भाग लेने के लिए 50 लोगों का दल झाबुआ से रवाना हुआ।

दरअसल, अपनी मांगों को लेकर संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी अधिकारी संघ पिछले छह दिनों से आंदोलनरत है। हड़ताल के चलते शासकीय कार्य प्रभावित हो रहे हैं। नियमितिकरण की मांग लिए हुए संविदाकर्मी आए दिन नए नए तरीकों से सरकार का विरोध कर रहे है।कुछ ऐसा ही अनोखा विरोध शनिवार को देखने को मिला।विरोध कर रहे संविदाकर्मियों ने मेहंदी से अपने अपने हाथों पर लिखवाया कि 'कमल का फूल हमारी भूल'। इसके साथ ही सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

इस विरोध के चलते स्वास्थ्य सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हो रही है। शनिवार को राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के तहत 7 हजार बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण नहीं हुआ है। 150 टीकाकरण केंद्रों पर टीकाकरण व माताओं की जांच प्रभावित हुई है। एनआरसी पूर्णतः बंद है। कुपोषित बच्चों की हालत गंभीर है। राष्ट्रीय कृमि मुक्त भारत की रिपोर्ट अटकी हुई है। ट्यूबरकुलोसिस मरीजों की न तो जांच हो रही और ना ही औषधि का वितरण हो रहा है। 


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...