Breaking News
जब मध्य प्रदेश की मंत्री को महंगा पड़ा था अंबानी का विरोध | MP: कांग्रेस-बसपा गठबंधन की संभावना बरकरार, हो सकता है गुप्त समझौता | SC-ST एक्ट पर BJP में फूट: शिवराज के ऐलान से नाराज उदित राज, दे डाली यह नसीहत | दर्दनाक हादसा: दो कारों की भिड़ंत में जनपद सीईओ समेत 4 लोगों की मौत | कैसे पूरी होगी शिवराज की यह घोषणा | कांग्रेस की उम्मीदों पर फिर पानी, बसपा ने जारी की प्रत्याशियों की पहली सूची | डंपर काण्ड: CM के खिलाफ याचिका खारिज, SC ने कहा-'चुनाव लड़ना है तो मैदान में लड़ें, कोर्ट में नहीं' | बीजेपी विधायक का आरोप, सवर्ण आंदोलन के लिए हो रही विदेशी फंडिंग | व्यापमं का जिन्न फिर बाहर: दिग्विजय ने शिवराज, उमा समेत 18 के खिलाफ किया परिवाद दायर | चुनाव लड़ने का इंतजार कर रहे बीजेपी के 70 विधायकों में मचा हड़कंप! |

मंत्री के बिगड़े बोल पर बिफरे पत्रकार, धरना देकर पाटीदार का फूंका पुतला

खंडवा। सुशील विधानी।

खरगोन के विधायक और कृषि राज्यमंत्री बालकृष्ण पाटीदार द्वारा मीडिया और पत्रकारिता के चौथे स्तंभ पर अनर्गल टिप्पणी करने के मामले में तूल पकड़ लिया है। बालकृष्ण पाटीदार के बयान पर आक्रोशित पत्रकारों ने खंडवा में धरना देकर मंत्री का पुतला फूंक दिया, साथ ही एक रैली निकालकर खंडवा प्रवास पर आए भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री विष्णु दत्त शर्मा को ज्ञापन सौंपकर मंत्री से माफी की मांग भी की। साथ ही मुख्यमंत्री के नाम सौंपे ज्ञापन में मांग की गई कि मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले मंत्री बालकृष्ण पाटीदार को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त किया जाए।

खरगोन में बालकृष्ण पाटीदार ने एक कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा था कि 5 रूपए का रोजाना अखबार खरीद कर वह अपना पैसा और समय बर्बाद न करें। उन्होंने यहां तक कह दिया था कि मीडिया बिकाऊ है और ब्लैकमेलर है। उन्होंने यह भी कहा था कि कुछ पत्रकार छोटे-मोटे नेताओं को डरा धमका कर ब्लैकमेल करने की कोशिश करते हैं। बालकृष्ण पाटीदार ने कहा था कि उन्हें किसी मीडिया की जरूरत नहीं है वह माउथ मीडिया से ही अपना प्रचार प्रसार कर लेते हैं। बालकृष्ण पाटीदार के इस बयान के बाद पूरे प्रदेश के पत्रकारों में आक्रोश व्याप्त हो गया। खंडवा में मध्यप्रदेश श्रमजीवी पत्रकार संघ के जिलाध्यक्ष देवेंद्र जायसवाल व निमाड़ श्रमजीवी पत्रकार संघ के उअध्यक्ष सुशील विधानी के नेतृत्व में जिले भर से आए सैकड़ों पत्रकारों ने पहले केवलराम चौराहे पर धरना दिया और बाद में बालकृष्ण पाटीदार का पुतला भी फूंका। धरने को निमाड़ श्रमजीवी पत्रकार संघ का भी समर्थन प्राप्त रहा। इस दौरान वरिष्ठ पत्रकार इकबाल सिंह खेड़ा, अनंत माहेश्वरी, शेख शकील, लोकेश पचौरी, ललित दुबे, अनूप खुराना प्रवीण दुबे आदि पत्रकारों द्वारा संबोधित किया गया। साथ ही मंत्री द्वारा की गई टिप्पणी की निंदा भी की। पत्रकारों ने गणेश गौशाला में आयोजित एक राजनीतिक कार्यक्रम में शामिल होने आए भाजपा के प्रदेश महामंत्री विष्णुदत्त शर्मा को ज्ञापन सौंपा। जिसमें मुख्यमंत्री से मांग की गई है कि वह कृषि राज्य मंत्री बालकृष्ण पाटीदार को तत्काल से तत्काल बर्खास्त करें। पत्रकारों ने कहा कि अगर बालकृष्ण पाटीदार माफी नहीं मांगेंगे तो प्रदेश भर में उनके खिलाफ आंदोलन चलाया जाएगा। धरने के पश्चात सभी पत्रकार गणेश गौशाला में आयोजित पार्टी की जिला बैठक में शामिल होने आए प्रदेश महामंत्री विष्णुदत्त शर्मा एवं उर्जा निगम के अध्यक्ष विजेन्द्र सिसोदिया से मिले एवं मंत्री पाटीदार द्वारा पत्रकारों पर की गई टिप्पणी के विरोध स्वरूप ज्ञापन देते हुए वीडियो दिखाकर मांग की गई कि उस पर कार्रवाई की जावे। धरने के दौरान ओंकारेश्वर, पुनासा, नर्मदानगर, मुंदी, खालवा हरसूद, सिंगोट, आशापुर, छैगांवमाखन, पंधाना के पत्रकार शामिल हुए।


  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...