महिला अपराधों में फिर लापरवाही, अपराध घटाने रिपोर्ट नहीं लिख रही पुलिस

भोपाल। महिला अपराधों को लेकर हबीबगंज गैंग रेप और आरती खुदकुशी मामले में भारी फजीहत झेल चुकी भोपाल पुलिस ने कोई सबक नहीं लिया है। शहर के कई थाने ऐसे हैं जहां आज भी पीडि़ताओं की सुनवाई नहीं की जा रही है। थानों में महिला अपराधों में कमी दिखाने यह खेल खेला जा रहा है। बीते 24 घंटे के भीतर टीला जमालपुरा और बैरसिया थानों में ऐसे दो प्रकरण सामने आ चुके हैं। जहां पुलिस ने छेड़छाड़ पीडि़ताओं की एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया। आला अधिकारियों की दखल के बाद दोनों केस दर्ज किए गए हैं। 

जानकारी के अनुसार बैरसिया इलाके में रहने वाली 44 वर्षीय महिला एक शासकीय स्कूल में शिक्षिका है। उसका आरोप है कि स्कूल आते-जाते समय बैरसिया में ही रहने वाला अशोक भार्गव उसे लंबे समय से परेशान कर रहा था। वह रास्ते में महिला पर अश्लील कमेंट्स और छेड़छाड़ करता था। पीडि़ता और उसके बेटों द्वारा कई बार अशोक को समझाईश दी गई, लेकिन उसकी हरकतें बंद नहीं हुई। इस पर महिला के बेटे ने दो महीने पहले बैरसिया पुलिस को एक शिकायती आवेदन दिया था, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। इधर जब अशोक को शिकायत की जानकारी मिली तो उसने भी महिला के बेटों के खिलाफ  एक शिकायती आवेदन दे दिया। मंगलवार को पीडि़ता ने इस पूरे मामले की जानकारी एसपी नार्थ, डीआईजी भोपाल और राज्य महिला आयोग पहुंचकर की। इसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देश पर पुलिस ने देर रात पीडि़ता की रिपोर्ट पर आरोपी के खिलाफ  छेड़छाड़ का मामला दर्ज कर लिया। उसकी गिरफ्तारी के प्रयास किए जा रहे हैं।


- छेड़छाड़ पीडि़त को एसआई ने धमकाया

इधर, टीला जमालपुरा में एमटेक की पढ़ाई कर रही 25 वर्षीय छात्रा टीला जमालपुरा में रहती है। वहीं मनचला आरोपी पुष्पेंद्र रहता है। आरोपी लंबे समय से लड़की को कॉल कर अश्लील कमेंट्स करता था, एफ बी वाट्स्ऐप पर अभद्र मैसेज सेंड करता था। बीती 10 जून को आरोपी ने लड़की को सरेराह रोककर उसके साथ अश्लील हरकतें की। पीडि़ता द्वारा विरोध करने पर आरोपी ने उसे जान से मारने की धमकी दे डाली। जब फ रियादिया शिकायत करने भाई के साथ में थाने पहुंची तो ड्यूटी पर मौजूद एसआई रमेश यादव ने प्रकरण करने से इनकार कर दिया। ज्यादा जोर देने पर शिकायत सायबर क्राइम में करने की बात कही। तब लड़की के पड़ोसी नवीन शर्मा ने सीएसपी नागेंद्र पटेरिया को कॉल पर मामले की जानकारी दी। सीएसपी की दखल के बाद टीला जमालपुरा पुलिस ने एफ आईआर दर्ज की। तब रमेश यादव ने पीडि़ता को बाद में देख लेने की धमकी दी और परिवार सहित फ र्जी मुकदमें में फं साने की धौंस दी। जिसकी शिकायत लड़की ने डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी से मंगलवार को शिकायती आवेदन के माध्यम से की है।


- पूर्व मुख्य मंत्री का करीबी बताकर धमकाया

पीडि़ता के पड़ोसी नवीन शर्मा ने बताया कि अधिकारियों से शिकायत की बात करने पर रमेश यादव ने यह कहते हुए लड़की और उसके परिवार को धमकाया कि वह पूर्व मुख्य मंत्री बाबूलाल गौर के करीबी हैं। जहां शिकायत करना है कर दो, मेरा कुछ नहीं होगा, अपना अंजाम भोगने के लिए तैयार रहना। एसआई और नवीन के बीच हो रही बहस की एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। वहीं अधिकारियों का कहना है कि मामले की जांच कराई जा रही है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

"To get the latest news update download tha app"