Breaking News
प्रशासन बता रहा 'डेंगू' छुआछूत की बीमारी | किसकी होगी पूरी मुराद, आज महाकाल के दर पर सिंधिया-शिवराज | सड़क पर सियासत : कमलनाथ बोले- बुधनी से अच्छी छिंदवाड़ा की सड़कें, शिवराज जी एक बार जरुर आए | सुल्तानगढ़ वॉटरफॉल हादसा : मौत से संघर्ष के बाद भी कैसे हार गई 9 जिंदगियां, देखें वीडियो | शर्मसार : सागर में नाबालिग से गैंगरेप, बीते दिनों ही मिला था सबसे सुरक्षित शहर का तमगा | कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने लिया विस चुनाव में भाजपा को उखाड़ फेंकने का संकल्प | केंद्रीय मंत्री की बहन को एसिड अटैक और मारने की धमकी | खाना खाने के बाद बिगड़ी तबियत, दो सगी बहनों की मौत, मां की हालत गंभीर | पूर्व राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा की जन्मशताब्दी मनाएगी सरकार : शिवराज | अस्पताल के बच्चा वार्ड में लगी आग, मची अफरा-तफरी, 35 बच्चे थे भर्ती |

किसानों को 5 साल की बोनस राशि दे शिवराज सरकार

भोपाल| नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने किसानों के मुद्दे पर एक बार फिर शिवराज सरकार को घेरा है| नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने किसानों को 5 साल की समर्थन मूल्य पर खरीदी गई रबी और खरीफ फसलों पर बोनस राशि देने की मांग की है। उन्होंने कहा किसान इस समय संकट में है, उन्हें उनकी फसल के वाजिब दाम नहीं मिल रहे हैं। इसलिए उन्हें पिछले 3 साल की बोनस राशि का भी भुगतान राज्य सरकार करें। 

 अजय सिंह ने कहा कि यूपीए सरकार के समय मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान किसानों को बोनस राशि देते थे, क्योंकि यह राशि उन्हें प्रधानमंत्री श्री मनमोहन सिंह की सरकार से मिलती थी। जैसे ही केंद्र में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी बने तब से किसानों को मिलने वाली बोनस राशि देना उन्होंने बंद कर दी। इस कारण प्रदेश के किसानों को भी यह बोनस राशि नहीं मिल सकी। सबसे अफसोसजनक यह बात है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जो किसानों के हितैषी होने का दावा करते हैं, उन्होंने इसका विरोध तक नहीं किया। 

नेता प्रतिपक्ष श्री सिंह ने कहा कि चुनावी साल में वोटों की चिंता एक बार फिर मुख्यमंत्री को किसानों की याद दिला रही है, तो उन्होंने किसानों को फिर से दो साल की बोनस राशि देने की घोषणा कर दी। श्री सिंह ने कहा कि किसानों के नाम पर घड़ियालू आंसू बहाने वाले मुख्यमंत्री अगर वाकई में किसान हितैषी हैं तो उन्हें पूरे 5 साल की समर्थन मूल्य पर खरीदी गई रबी और खरीब फसलों की बोनस राशि का भुगतान किसानों को करना चाहिए।

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...