Breaking News
किसान आंदोलन की आहट से सरकार की नींद उड़ी, प्रदेश में हाई अलर्ट, पुलिसकर्मियों की छुट्टियां रद्द | अध्यापकों के तबादलों से रोक हटी, आदेश जारी | राहुल गांधी की सभा की अनुमति को लेकर बैकफुट पर प्रशासन, बदली शर्ते | किसान और जनता के घरो में डाका डाल रही सरकार : अजय सिंह | शराब दुकानों को लेकर आमने-सामने हुए दो विभाग | सहकारी बैंक का जीएम 50 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथों धराया | कम नहीं होगा पेट्रोल-डीजल पर वैट : वित्तमंत्री मलैया | VIDEO : मप्र कोटवार संघ की सरकार को चेतावनी- मांगे पूरी नहीं हुई तो कांग्रेस को देंगें समर्थन | VIDEO : बाप को जेल ले जा रही थी पुलिस, बेटियों ने जीप पर चढ़कर किया जमकर हंगामा | एमपी टूरिज्म के रिसॉर्ट में तेंदुए का टेरर..देखिये वीडियो |

पटवारियों की चेतावनी, 1 जून से लेंगे सामूहिक अवकाश

भोपाल। पटवारी संघ के नेतृत्व में प्रदेश भर के पटवारियों ने राजधानी भोपाल के नीलम पार्क में धरना प्रदर्शन किया। जिसमें प्रदेश भर से हजारों की संख्या में पटवारियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। पटवारी 2800 के वेतनमान को लेकर मांग कर रहे हैं, जिस पर सरकार ने अभी तक विचार नहीं किया है। पटवारी मांग नहीं मानने पर सरकार को 1 जून से सामूहिक अवकाश पर जाने एवं 15 जून से अनिश्चितकालीन हड्ताल पर जाने की चेतावनी दे चुके हैं। 

पटवारियों ने राजधानी में मांगों को लेकर रैली निकाली। उनकी मांग थी कि सरकार अन्य कर्मचारी संघों की तरह उनकी मांगों पर भी विचार करे। पटवारियों का वेतनमान 1998 के बाद से अभी तक नहीं सुधरा है। जिससे पटवारियों में नाराजगी है। पटवारी संघ का आरोप है कि राज्य शासन ने आश्वासन के बाद भी उनकी मांगों को नहीं माना है। जब पिछले साल पटवारी हड़ताल पर गए थे, तब सरकार ने एस्मा लगाकर कोर्ट के माध्यम से हड्ताल समाप्त करा दी थी। तब पूर्व राजस्व मंत्री रामपाल सिंह ने पटवारियों को आश्वासन दिया था कि 3 महीने के भीतर उनकी मांगों पर विचार किया जाएगा। 


पटवारी संघ ने लगाए आरोप

पटवारी संघ के आरोप हैं कि सरकार चुनाव से पहले अन्य कर्मचारी संघों की मांग मान रही है, मुख्यमंत्री भी अन्य संघों के कर्मचारी नेताओं से लगातार चर्चा कर रहे हैं। पटवारी संघ की मांगों पर न तो सरकार विचार कर रही है और न ही मुख्यमंत्री मिलने का समय दे रहे हैं। जबकि अभी तक पटवारी लगातार काम कर रहे हैं। 

  Write a Comment

Required fields are marked *

Loading...