अकेले पड़े गौर, जबलपुर दौरे पर मिलने भी नहीं पहुंचे बीजेपी नेता

जबलपुर| कभी मंत्री अधिकारियों और पार्टी के नेताओ से घिरे रहने वाले पूर्व सीएम और बीजेपी के वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर आज अपने आपको अकेला महसूस कर रहे है। दो दिन के लिए जबलपुर आये पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर आज अकेले सर्किट हाउस में बैठे रहे। जबलपुर प्रवास के दौरान राम मंदिर को लेकर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि जब श्रीराम चाहेंगे तब अयोध्या में श्री राम मंदिर बन जाएगा बन जाएगा । उन्होंने आगे कहा कि संतों की भावना है कि अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो लेकिन मामला सुप्रीम कोर्ट में है,बाबूलाल गौर ने कहा कि मंदिर का निर्माण सरकार नहीं संत ही करेंगे| 

मंदिर निर्माण को लेकर शंकराचार्य स्वरूपानंद जी के अयोध्या कूच करने के बयान पर श्री गौर ने कहा अयोध्या जाने का शंकराचार्य का अधिकार है, श्री गौर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव में पीएम नरेंद्र मोदी का ही नाम चलेगा| नरेंद्र मोदी प्रभावशाली और प्रतिभावान नेता है. मोदी जैसा नेता आज तक देश के इतिहास में नहीं हुआ. मोदी मंत्रिमंडल में एक भी मंत्री पर भ्रष्टाचार का आरोप नहीं है|अगली बार भी एनडीए की सरकार बनेगी| प्रियंका गांधी के कांग्रेस में सक्रिय रूप से आने पर श्री गौर ने कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा|  श्री गौर ने यह भी कहा कि कांग्रेस से लोकसभा चुनाव लड़ने का प्रस्ताव था लेकिन हमने अस्वीकार कर दिया|

सच बोलता हूं, जो कड़वा होता है 
पार्टी के खिलाफ खुलकर बयानबाजी से बाद गौर से संगठन और भाजपाइयों ने भी दूरी बनानी शुरू कर दी है। यही कारण है कि वे मंडला जाने के लिए रविवार सुबह सर्किट हाउस पहुंचे तो उनसे मिलने न संगठन के पदाधिकारी पहुंचे और न ही कोई नेता। हालांकि, कांग्रेसी नेता न सिर्फ मिलने पहुंचे बल्कि उनका स्वागत भी किया। पत्रकारों से बातचीत में भी पूर्व मुख्यमंत्री ने इशारों-इशारों में भाजपा के कुछ नेताओं पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा कि मैं सच बोलता हूं, जो कड़वा होता है। कांग्रेस नेताओं के पहुंचने पर भी कहा कि उनके पास भाजपा-कांग्रेस सभी दल के नेता आशीर्वाद लेने आते हैं। बताया कि उनसे मिलने दिग्विजय सिंह आए थे। कांग्रेस से चुनाव लड़ने का प्रस्ताव भी दिया लेकिन अभी कुछ तय नहीं है।

"To get the latest news update download tha app"