घटिया सड़्रक निर्माण की जिम्मेदारी पर सीएम की दो टूक, आपस में तालमेल बैठाएं एजेंसियां

भोपाल। प्रदेश में सड़क निर्माण में देरी एवं निर्माण एजेंसियों द्वारा एक-दूसरे केा जिम्मेदार ठहराने केा लेकर मुख्यमंत्री कमलनाथ ने नाराजगी जताई है। उन्होंने लोक निर्माण विभाग एवं मप्र सड़क विकास निगम की गतिविधियों की समीक्षा करते हुए कहा कि सड़क निर्माण करने वाली एजेंसियों के लिए ऐसी नीति बनाई जाए, जिससे वे अपना काम पूरी जिम्मेदारी से कर सकें। अभी एजेंसियों घटिया सड़्रक निर्माण एवं मेंटेनेंस के लिए एक दूसरे को जिम्मेदार ठहराती हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़क निर्माण में कार्यरत विभिन्न एजेंसियां भ्रम दूर करते हुए एक ऐसी नीति तैयार करें, जिससे हर एजेंसी को अपना कार्य-क्षेत्र और दायित्व पता हो। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कई सड़कों का निर्माण अथवा मेंटेनेंस इसलिए नहीं हो पाता क्योंकि एक विभाग दूसरे विभाग को जिम्मेदार ठहराता है। सड़कों के निर्माण के साथ पर्यावरण सुधार के लिए व्यापक पैमाने पर वृक्षारोपण भी होना चाहिए। उन्होंने सड़क निर्माण के प्रोजेक्ट में ही वृक्षारोपण का प्रावधान शामिल करने को कहा। नाथ ने कहा कि सड़कों के दोनों ओर पौधारोपण हो, यह सुनिश्चित होना चाहिए। मुख्यमंत्री ने सड़कों के संधारण (मेंटेनेंस) पर भी विशेष ध्यान देने को कहा। 


खुद की आमदनी बढ़ाएं विभाग 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हर विभाग को अपने स्वयं के आय के स्त्रोत भी विकसित करना चाहिए। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कहा कि सड़क निर्माण के साथ अपने रिसोर्स भी बने, ऐसा प्रोजेक्ट विभाग की ओर से तैयार हो। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि शहरों के आसपास बड़े पैमाने पर रिंग रोड और बायपास सड़कें बनाई जायें। 

"To get the latest news update download the app"