भोपाल से उठाया और उत्तर प्रदेश में एनकाउंटर, पुलिस टीम के खिलाफ परिवाद दायर

भोपाल। फराज़ मुस्तफा|  उत्तर प्रदेश की एसटीएफ पर एक बार फिर फर्जी एनकाउंटर करने के आरोप लगे हैं। पिछले दिनों भोपाल से एक युवक को एसटीएफ ने उठाया और यूपी में ले जाकर एनकाउंटर कर दिया। वहां पुलिस ने बताया कि आरोपी को एक मुठभेड़ में मार गिराया गया है। मृतक के परिजनों ने इस मामले में भोपाल कोर्ट में दोषियों पर एफआईआर की मांग को लेकर एनकाउंटर करने वाली पुलिस टीम के खिलाफ परिवाद दायर किया है। जिसमें मारे गए युवक को भोपाल से उठाने के पुख्ता सबूत संगलन किए गए हैं।

जानकारी के अनुसार तौकीर अहमद पिता हफीज़ अहमद (22) निवासी प्रतापगढ़ उत्तर प्रदेश 10 वीं कक्षा तक पढ़ा था। उसके खिलाफ यूपी में रंगदारी, हत्या, हत्या के प्रयास जैसे कई संगीन अपराध दर्ज थे। हालांकि परिजनों का आरोप है कि अधिकतर अपराधों को यूपी पुलिस द्वारा तौकीर पर जबरिया लादा गया था। उसे वांटेड बनाया गया और एक लाख रूपए का इनाम घोषित कर दिया गया। पुलिस से बचने के लिए तौकीर भोपाल में छिपा था। यहां से वह लगातार एसटीएफ के प्रभारी इंस्पेक्टर हेमंत भूषण के संपर्क में था। एनकाउंटर से दस दिन पूर्व में तौकीर ने सरेंडर करने की बात हेमंत से अपने दोस्त के फोन से कही थी। इसके बाद बीती 4 जून को हेमंत भूषण ने तौकीर को लेकेशन के आधार पर इमामी गेट स्थित अमन इंटर प्राइजेज के सामने एक गली से गिरफ्तार किया। हेमंत के सीसीटीवी फुटैज वहां एक इलेक्ट्रानिक की शॉप में लगे सीसीटीवी कैमरों में कैद हुए थे ऐसा तौकीर के परिजनों का दावा है। यहां से ले जाने के बाद में तौकीर का 6 जून की तड़के एनकाउंटर किया गया। बताया गया कि तौकीर ईद पर परिजनों से मिलने आया था। कार्रवाई को वर्तमान में प्रतापगढ़ एसपी अभिषेक सिंह की अगवाही में अंजाम देना पुलिस ने बताया था। 

इधर, मृतक के परिवार की ओर से पैरवी कर रहे एडवोकेट यावर खान ने बताया कि मामले में तीन दिन पहले परिवाद लगाई गई है। न्यायिक दंडाधिकारी प्रभम श्रेणी श्याम सुंदर झा ने इस प्रकरण में प्रतापगढ़ कोतवाली पुलिस को अब तक की जांच का स्टेटस कोर्ट में पेश करने के आदेश दिए हैं। केस की अगली सुनवाई 11 नवंबर को की जाएगी।

"To get the latest news update download the app"