पूर्व वित्तमंत्री राघवजी लड़ेंगे निर्दलीय चुनाव, भाजपा की बढ़ी टेंशन

विदिशा। मध्य प्रदेश में टिकट वितरण के बाद शुरू हुआ घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है| बीजेपी और कांग्रेस में बागी नेताओं की संख्या बढ़ती ही जा रही है| नामांकन के आखिरी दिन कई बड़े नेताओं ने निर्दलीय पर्चा भरा है, जिससे दोनों पार्टियों के लिए मुश्किलें खड़ी हो गई है| इस बीच मध्यप्रदेश के पूर्व वित्त मंत्री राघवजी के भी निर्दलीय चुनाव लड़ने की चर्चा से सियासत गरमा गई है| राघव जी ने शुक्रवार को शमशाबाद से निर्दलीय के रूप में नामांकन पर्चा भरा है| 

पूर्व वित्त मंत्री राघवजी भाई पर लगे अप्राकृतिक कृत्य के आरोप के बाद पार्टी ने पिछले चुनाव में उनका टिकट काट दिया था| इस बार उन्होंने शमशाबाद क्षेत्र से अपनी बेटी ज्योति शाह के लिए टिकट मांगी थी, लेकिन बीजेपी ने सबको चौकाने वाला फैसला किया और राजश्री सिंह को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है । टिकट नहीं मिलने से नाराज पूर्व वित्त मंत्री राघवजी खिलाफत में उतर गए हैं । उन्होंने शमशाबाद क्षेत्र के कार्यकर्ताओं का सम्मेलन बुलाकर उन्हें भाजपा प्रत्याशी को हराने का संकल्प दिलाया । इसके बाद शुक्रवार को उन्होंने निर्दलीय के रूप में पर्चा जमा किया है, उन्हें सपाक्स से बी फार्म मिलने की चर्चा है| वहीं राघव जी ने टिकट वितरण पर सवाल उठाते हुए आरोप लगाया कि इस बार शमशाबाद में कांग्रेस के साथ भाजपा नहीं कांग्रेस लड़ रही ।1991 में अटल जी पर पत्थर फिकवाने वाले रूद्र प्रताप की पत्नी राजश्री को पार्टी ने टिकट दिया है। राजश्री कांग्रेस से लोकसभा का चुनाव लड़ चुकी है| 

शमशाबाद विधानसभा क्षेत्र से सूर्यप्रकाश मीणा ने चुनाव नहीं लड़ने की घोषणा की थी। इसी के बाद क्षेत्र से प्रत्याशी के रूप में पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष रहीं राजश्री सिंह का नाम चर्चा में आया था। इस नाम की चर्चा के साथ ही भाजपा के कार्यकर्ताओं का विरोध भी शुरू हो गया था। इसी के चलते भाजपा ने इस सीट से प्रत्याशी की घोषणा रोक दी थी।  विरोधाभास की स्थिति को देखते हुए भाजपा ने गुरुवार की दोपहर को जारी सूची में शमशाबाद प्रत्याशी घोषणा की । राजश्री सिंह के नाम की घोषणा होते ही क्षेत्र से दावेदारी कर रहे नेता मायूस हो गए।  इस विधानसभा क्षेत्र से पूर्व वित्त मंत्री राघवजी की बेटी ज्योति शाह, वन विकास निगम के उपाध्यक्ष राम मोहन बघेल, क्षेत्र के वरिष्ठ नेता लक्ष्मी नारायण तिवारी भी टिकट मांग रहे थे।