हॉस्टल वार्डन होंगी बर्खास्त, सहायक संचालक को थमाया नोटिस

भोपाल। खेल संचालनालय के हॉस्टल में रह रही महिला खिलाड़ी द्वारा बच्ची को ेजन्म देने के मामले वार्डन पर बर्खास्तगी की कार्रवाई हो सकती है। खेल विभाग के उप सचिव किरण मिश्रा की रिपोर्ट के बाद प्रमुख सचिव अनुरुद्ध मुखर्जी ने कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इस मामले में खेल विभाग ने खेल संचालनालय की सहायक संचालक को शोकाज नोटिस भेजकर जवाब तलब कर लिया है। विभाग ने महिला खिलाडिय़ों के हर महीने स्वास्थ्य परीक्षण के निर्देश जारी किए हैं। 

खेल विभाग के हॉस्टल में रह रही 19 वर्ष की सेलिंग खिलाड़ी ने 11 मार्च को जेपी अस्पताल में अविसित बच्ची को जन्म दिया था। खिलाड़ी के पेट में दर्द होने पर संचालनालय की महिला अधिकारी ही उसे अस्पताल लेकर गई थी। यह मामला मंगलवार देर रात सामने आया। लेकिन संचालनालय के अधिकारियों ने मामले को आखिरी समय तक दबाने की कोशिश की। बुधवार समय जैसे ही मामला सरकार के संज्ञान में आया, आनन फानन में विभाग के प्रमुख सचिव ने उप सचिव किरण मिश्रा के नेतृत्व में टीम भेजकर जांच रिपोर्ट तलब की। उप सचिव ने शाम तक प्रमुख सचिव को रिपोर्ट भेज दी। इसमें संचालनालय की लापरवाही सामने आ रही है, लेकिन महिला खिलाड़ी ने कटनी निवास अपने मित्र का नाम बताया है। साथ ही उसने कार्रवाई नहीं करने की भ्ीा गुहार लगाई है। फिलहाल इस मामले में हॉस्टल वार्डन की लापरवाही मानते हुए उन्हें बर्खास्त करने की तैयारी है। बताया गया कि खेल संचालनालय में वार्डन समेत अन्य पदों पर आउटसोर्सिंग से अधिकारी एवं कर्मचारियों को रखा गया है। 

नियमित नहीं होता था स्वास्थ्य परीक्षण 

महिला खिलाडिय़ों के नियमित स्वास्थ्य परीक्षण का मामला पिछली सरकार के कार्यकाल में भी उठा था, लेकिन संचालनालय के अधिकारियों ने इसे गंभीरता से नहीं लिया था। अब जब महिला खिलाड़ी गर्भवती हो गई हो तब वार्डन समेत अन्य जिम्मेदारों की कार्यप्रणाल पर सवाल उठ रहे हैं कि आखिर 6 महीने तक महिला खिलाड़ी के स्वास्थ्य की जानकारी क्यों नही लगी। खेल विभाग ने महला खिलाडिय़ों के हर महीने स्वास्थ्य परीक्षण के आदेश दिए हैं।

"To get the latest news update download tha app"