'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' : बैंड-बाजे के साथ फिल्म देखने पहुंचे भाजयुमो कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प

इंदौर। ट्रेलर रिलीज होते ही विवादों में घिरी बॉलीवुड फिल्म 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' के रिलीज होते ही विवाद की स्तिथि देखने को मिल रही है|  इंदौर में भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ता फ़िल्म देंखने ढोल नगाड़ों के साथ मल्हार मॉल पहुचे | इस दौरान मोर्चा के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच झड़प हो गई |  बड़ी संख्या में पहुंचे कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच थिएटर में घुसने को लेकर विवाद हो गया। 

फिल्म के ट्रेलर के बाद ही कांग्रेस और एनएसयूआई द्वारा फिल्म के विरोध की घोषणा की गई थी| जिसके बाद से ही सुबह बड़ी संख्या में पुलिस ने सिनेमाघरों के बाहर मोर्चा संभाल लिया। यहां फिल्म देखने आए भाजपा युवा मोर्चा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने थिएटर के भीतर जाने से रोक दिया, जिसके बाद विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई। पुलिस ने हल्का बल प्रयोग कर कार्यकर्ताओं को बाहर कर दिया। इसके बाद कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी।  युवा मोर्चा के कार्यकर्ता लगातार नारेबाजी कर रहे थे और मुख्यमंत्री कमलनाथ पर भड़के हुए थे। पुलिस और कार्य़कर्ताओं के बीच थिएटर के अंदर जाने को लेकर हुज्जत शुरू हो गई। कार्यकर्ताओं को अंदर दाखिल होने से रोकने के लिए पुलिस को हल्का बल प्रयोग करना पड़ा। विवाद बढ़ते ही नारेबाजी होने लगी| 

अनुपम खेर अभिनीत 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' रिलीज हो चुकी है. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार संजय बारू के इसी नाम पर बनी फिल्म शुरुआत से ही विवादों में है. इस फिल्म में 2004 से 2014 तक के डॉक्टर मनमोहन सिंह के कार्यकाल को दिखाया गया है|  कांग्रेस का आरोप है कि इस फिल्म में तथ्यों को गलत तरीके से पेश किया गया है| विवादों में आने के बाद दर्शकों के बीच फिल्म को देखने का उत्साह बढ़ा है। ऐसे में फिल्म के कलेक्शन पर भी अच्छा असर देखने को मिल सकता है। देश के पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह के कार्यकाल पर आधारित इस फिल्म के ट्रेलर को देखने के बाद कई राजनीतिक पार्टियों ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। वहीं कांग्रेस ने 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' को बीजेपी का एजेंडा बताया।


"To get the latest news update download tha app"