अब एमपी से उठी अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की मांग, शिप्रा के तट पर उपवास पर बैठे साधु-संत

उज्जैन

लोकसभा चुनाव के नज़दीक आते ही राम मंदिर को लेकर सियासत फिर गर्मा गई है। अब मध्यप्रदेश में भी अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर निर्माण शुरू करने की मांग तेज हो चली है। अयोध्या में भगवान राम का मंदिर बनाने को लेकर आज उज्जैन में क्षिप्रा किनारे राम घाट पर आज साधु संत एक दिन का उपवास रखने जा रहे है। दिन भर के उपवास के दौरान साधु-संत केंद्र सरकार के लिए सदबुद्धि यज्ञ भी करेंगे। इस यज्ञ और उपवास को लेकर सुबह से ही साधु-संतों का घाट पर जमावड़ा लगा हुआ है। 

खबर है कि आज गुरुवार को चारधाम मंदिर के महामंडलेश्वर स्वामी शांतिस्वरूपानंद महाराज सरकार से अयोध्या में राम मंदिर निर्माण किए जाने की मांग को लेकर रामघाट पर राणौजी की छत्री के सामने एक दिन के उपवास पर बैठेंगे। उनके साथ उमेशनाथ महाराज, रंगनाथाचार्य महाराज सहित नगर के आश्रमों व अखाड़ों के साधु-संत और आम श्रद्धालु रहेंगे।  उपवास के दौरान सुंदरकांड पाठ एवं भजन-कीर्तन किए जाएंगे और समापन में यज्ञ होगा। वही आम लोगों से राम मंदिर निर्माण आंदोलन के समर्थन में संकल्प पत्र भराए जाएंगे।उपवास को लेकर कलेक्टर मनीष सिंह द्वारा 11 से 5 बजे तक धार्मिक कार्यक्रम करने की अनुमति दी है।

शांतिस्वरूपानंद महाराज का कहना है कि केंद्र और उत्तर प्रदेश में बीजेपी की पूर्ण बहुमत वाली सरकार होने के बाद भी मंदिर का निर्माण अब तक शुरू नहीं हो सका , जिसके कारण  साधु संतों में असंतोष है औऱ इसी के चलते यह फैसला लिया है।इस प्रतीकात्मक उपवास के माध्यम से हमारी मांग है कि मंदिर निर्माण के लिए केंद्र सरकार अध्यादेश लाए, ताकी जल्द से जल्द मंदिर का काम शुरु हो सके।

बता दे कि अयोध्या में आज के दिन ही कारसेवकों ने 1992 में महज 17 से 18 मिनट के अंदर ही बाबरी मस्जिद  को ढहा दिया था। आज बाबरी मस्जिद विध्वंस के 26 साल बाद एक बार फिर अयोध्या में भगवान राम का मंदिर निर्माण और बाबरी मस्जिद विध्वंस का मामला राजनीति के केंद्र में है। भाजपा समेत देश की कई राजनीतिक पार्टियां अयोध्या राम मंदिर के निर्माण के लिए हुंकार भर रही हैं, उनके अनुसार अयोध्या में विवादित जमीन पर  बगैर किसी देरी के भगवान राम का ही मंदिर बनना चाहिए। 

"To get the latest news update download tha app"